Amazon खरीद सकती है रिलायंस रिटेल में 26 पर्सेंट स्टेक

नई दिल्‍ली। ई-कॉमर्स कंपनी Amazon देश की सबसे बड़ी रिटेलर रिलायंस रिटेल में 26 पर्सेंट तक स्टेक खरीद सकती है। यह जानकारी इंडस्ट्री के दो वरिष्ठ अधिकारियों ने दी। हालांकि उन्होंने यह साफ किया कि दोनों कंपनियां इसे लेकर अभी सिर्फ चर्चा कर रही हैं। रिटेल बिजनेस का स्टेक बेचने को लेकर रिलायंस की इससे पहले चीन के अलीबाबा ग्रुप से बात हो रही थी। हालांकि वैल्यूएशन पर सहमति न बन पाने से डील पक्की नहीं हो पाई।
एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि Amazon भारत की सभी बड़ी ब्रिक ऐंड मोर्टार चेन में लंबे समय के लिए हिस्सेदारी बनाना चाहती है और उसका कहना है कि भारत में अभी भी फिजिकल आउटलेट से शॉपिंग करने की परंपरा है। रिलायंस में हिस्सेदारी लेने से Amazon को इंडियन यूजर्स तक कई चैनलों के जरिए पहुंच बढ़ाने में मदद मिलेगी।
फ्यूचर ग्रुप से भी बातचीत जारी
ऐसी रिपोर्ट्स भी आई थीं कि रिलायंस की इस सिलसिले में फ्यूचर ग्रुप से भी बात चल रही है लेकिन इसकी गति काफी सुस्त है। Amazon और रिलायंस के प्रवक्ताओं ने इस घटनाक्रम पर कमेंट करने से मना कर दिया। रिलायंस के प्रवक्ता ने बताया, ‘हमारी कंपनी अलग-अलग मौकों को समय-समय पर आंकती रहती है। हमने हमेशा सिक्योरिटीज एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (लिस्टिंग ऑब्लिगेशंस एंड डिसक्लोजर रिक्वायरमेंट) रेगुलेशन 2015 के तहत कंप्लायंस में जरूरी डिसक्लोजर किए हैं। आगे भी करते रहेंगे।’
Amazon इस मामले में सावधानी बरतते हुए बढ़ रही है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी चाहती है कि डील ई-कॉमर्स के लिए फरवरी में लागू हुए विदेशी निवेश (FDI) के नए नियमों के मुताबिक हो। अमेरिका के सिएटल की यह कंपनी रिलायंस रिटेल में 26 पर्सेंट से कम स्टेक खरीदना चाहती है। ऐसा करने से रिलायंस रिटेल Amazon के भारतीय ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर सेलर बन सकेगी।
फूड ऐंड ग्रॉसरी में अपना प्लान बढ़ाएगी Amazon 
FDI के नए नियमों के मुताबिक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर सामान बेचने वाली कंपनियों में प्लेटफॉर्म की हिस्सेदारी 26 पर्सेंट से ज्यादा नहीं हो सकती। अधिक स्टेक खरीदने पर इन्हें ग्रुप कंपनी घोषित कर दिया जाएगा और सेलर प्लेटफॉर्म पर सामान नहीं बेच सकेगी।
सूत्रों के मुताबिक Amazon की रिलायंस रिटेल में दिलचस्पी का कारण रिटेलर की कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स और मोबाइल फोन के मार्केट में लीडिंग पोजिशन है। साथ ही, रिलायंस रिटेल के ग्रॉसरी स्टोर के विशाल नेटवर्क से Amazon को फूड एंड ग्रॉसरी के अपने प्लान पर बढ़ने में मदद मिल सकती है। अधिकारियों ने बताया रिलायंस इंडस्ट्रीज अपना कर्ज घटाने के लिए किसी अंतर्राष्ट्रीय रिटेलर या स्ट्रैटिजी इन्वेस्टर से डील करना चाहती है।
जून तिमाही के अंत तक कंपनी पर 2.88 लाख करोड़ रुपये का कर्ज था। रिलायंस रिटेल रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की सब्सिडियरी है। एक अधिकारी ने बताया, ‘रिलायंस भी (डील में) दिलचस्पी दिखा रही है, बशर्ते वैल्यूएशन मैच कर जाए। दोनों कंपनियों का मानना है कि होड़ करने से बेहतर है तालमेल बनाना।’ हालांकि एक अन्य अधिकारी ने बताया कि दोनों कंपनियों में ऐसी कोई चर्चा नहीं हो रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *