‘रहम किया जाए’ की तख्ती टांग विकास दुबे के गुर्गे उमाकांत ने किया सरेंडर

कानपुर। कानपुर के बिकरू कांड में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे का साथी उमाकांत उर्फ गुड्डू शुक्ला ने सरेंडर कर दिया है। उमाकांत पर 50 हजार का ईनाम घोषित था वो हत्याकांड के बाद से वो फरार था। यूपी पुलिस के एनकाउंटर से डरे-सहमे उमाकांत ने पत्नी-बेटी के साथ थाने पहुंचकर सरेंडर किया

बिकरू कांड के एक और आरोपी उमाकांत उर्फ बउउन ने शनिवार को चौबेपुर थाने में पत्नी और बच्चों के साथ सरेंडर कर दिया। उमाकांत पत्नी के साथ थाने पहुंचा और दंडवत लेट गया। जब दरबान से उससे पूछा तो उसने बताया वो विकास दुबे का साथी है। बिकरू कांड में वह भी शामिल था। जिसके बाद थाने में हड़कंप मच गया। आननफानन में दरोगा ने उसका चेहरा देखा।

तभी वहां सीओ संतोष सिंह पहुंच गए और उसे पूछताछ के लिए अंदर ले गए। पुलिस को उमाकांत की काफी समय से तलाश थी। पुलिस ने कई जगह छापेमारी भी की थी लेकिन सफलता नहीं मिली थी। सूत्रों के मुताबिक, उमाकांत उर्फ बउउन को विकास दुबे की आंख, नाक, कान कहा जाता था। चौबेपुर का रहने वाला उमाकांत पुलिस की 50 हजार इनामिया सूची में शामिल हैं।

शनिवार को उमाकांत ने थाना चौबेपुर में सरेंडर किया। इस दौरान वह पत्नी और बच्चों को लेकर पहुंचा था। पुलिस ने बताया कि उमाकांत ने गले में एक तख्ती टांग रखी थी। जिसमें उसने अपना जुर्म कबूल किया। साथ ही पुलिस के सामने सरेंडर की बात भी लिख रखी थी। पुलिस ने बताया कि एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में मारे गए अपराधी विकास दुबे का उमाकांत खास साथी है।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *