बिहार के मंत्रियों ने पलायन के लिए केजरीवाल सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया

पटना। लॉकडाउन के बाद बनी स्थिति को लेकर राजनीति और जुबानी जंग भी तेज हो रही है। बिहार सरकार के मंत्री जय कुमार सिंह ने दिल्ली से पूर्वांचलवासियों के पलायन के लिए दिल्ली सरकार पर आरोप लगाए हैं।
बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा ने भी पलायन को लॉक डाउन को फेल करने की साजिश करार दिया है।
उन्होंने कहा, सवाल यह कि क्या बिहार और उत्तर प्रदेश यानि पूर्वांचलवासियों को उपयोग अरविंद केजरीवाल ने सिर्फ वोट के लिए किया, जब संकट की घड़ी आई तो पराई हो गई दिल्ली सरकार?
जल संसधान मंत्री संजय झा ने इसे दिल्ली सरकार की साजिश करार दिया है। जल संसाधन मंत्री संजय झा ने बताया कि नीतीश सरकार ने लॉकडाउन के पहले ही दिन से सभी के लिए पूरी व्यवस्था कर दी थी। बिहार सरकार ने इसके लिए 100 करोड़ रुपये भी जारी कर दिया था। संजय झा ने यह भी बताया कि उन्हे लोगों ने फोन कर बताया है कि दिल्ली में उनके घर के बिजली-पानी के कनेक्शन काट दिया गया और उनसे कहा गया कि लॉकडाउन तीन महीने तक रहेगा। बिहार सरकार के मंत्री संजय झा ने स्पष्ट कहा कि पूरे प्लान के तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए लॉकडाउन को फेल करने की साजिश रची गई है।
संजय झा ने बताया कि नीतीश सरकार ने अब यह फैसला लिया है कि पलायन कर लोट रहे लोगों के लिए सीमा पर ही टेंट लगाया जाएगा। वहां पहुंचने वाले लोगों के खाने-पीने की व्यवस्था के साथ उनके स्वास्थ्य की जांच भी बिहार सरकार अपने खर्च पर करेगी। उन्होने कहा कि इस कार्य के लिए अगर और भी राशि की जरूरत होगी तो बिहार सरकार पीछे नही हटेगी उन्होंने कहा कि सीमावर्ती इलाकों में बनने वाले टेंट में लोगों को 14 दिन तक रखा जाएगा। उसके बाद उनके स्वास्थ्य की जांच कर उनके घर भेजा जाएगा। जल संसाधन मंत्री ने यह भी बताया कि संबंधित राज्य के नोडल अफसर वहां की व्यवस्था उपलब्ध कराएंगे, इसका पूरा खर्च बिहार सरकार उठाएगी।
मंत्री जय कुमार सिंह ने भी दिल्ली सरकार की मंशा पर उठाए सवाल
बिहार सरकार के एक और मंत्री जय कुमार सिंह ने दिल्ली के केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया है कि दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद बिहार और उत्तर प्रदेश के लोगों के पलायन के लिए दिल्ली सरकार दोषी है। जय कुमार सिंह का कहना है कि उनके इलाके के कई लोगों ने दिल्ली से उन्हें फोन करके बताया है कि उनके घर के पानी और बिजली के कनेक्शन काट दिए गए है लिहाजा अब दिल्ली में उनका रुकना संभव नहीं हैं क्योंकि पैसे और खाने का सामान भी खत्म हो चुका है।
बिहार की सरकार उठा रही है खर्च
बिहार सरकार के एक और मंत्री जय कुमार सिंह ने बताया कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि बिहार के लोग जहां है वही रहें बिहार सरकार की ओर से उनके रहने खाने के इंतजाम किए जा रहे हैं। इसके लिए बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री राहत कोष से 100 करोड़ रुपये भी जारी किए थे। इसके अलावे राज्यों के साथ समन्वय बनाकर काम भी कर रहे थे। सभी फंसे बिहारियों का खर्च भी बिहार सरकार ही उठा रही थी, फिर भी दिल्ली सरकार की लापरवाही और गैर-जिम्मेदाराना रवैये की वजह से लोग पलायन को मजबूर हुए।
शनिवार की सुबह से ही दिल्ली की सड़क पर जो पलायन का नजारा दिख रहा था। देर रात तक आनंद विहार स्टेशन और दिल्ली की सीमा से लगे गाजियाबाद बस स्टैंड पर हजारों लोगों की भयानक तस्वीर बन गई थी। सोशल डिस्टेंस की ना सिर्फ धज्जियां उड़ रही थीं बल्कि भीड़ की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन का पूरी तरह से उलंघन किया गया। इस भीड़ को देखकर देश भर में हड़कंप मच गया था, क्योंकि सभी जानते हैं कि कोरोना का एक भी मरीज भीड़ में रहा होगा तो स्थिति कैसी हो सकती है।
गौतम गंभीर ने लगाए राजनीति के आरोप
पूर्व क्रिकेटर और बीजेपी सांसद ने गौतम गंभीर ने 1.5 करोड़ रुपये की मदद करने का ऐलान किया है लेकिन उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है।
गंभीर ने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली की जनता ने अरविंद केजरीवाल को औरों पे आरोप लगाने के लिए चुना है क्या ?
इस स्थिति में भी सारी जवाबदेही PM और बाकी राज्यों के CM पे डाल दी! 500 करोड़ के advertisement budget में 2 लाख लोगों का खाना आ जायेगा। अगर दिल्ली ही नहीं रहेगी तो कहाँ बेचोगे अपने झूठ को?’
आप नेता के खिलाफ FIR
उधर आप पार्टी के विधायक राघव चड्डा ने इस हालात के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को दोषी बताते हुए ट्वीट किया था। बाद में उन्होंने अपने ट्वीट को हटा दिया, लेकिन पुलिस ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली। हम आपको बता दें कि शनिवार की तस्वीर देखकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी चिंता जाहिर की थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *