कुम्भ में भगवान राम का जयघोष करते हुए निकली तीनों अनि अखाड़ों की पेशवाई

प्रयागराज। कुम्भ मेले के लिए तीनों अनि अखाड़ों (दिगम्बर, निर्मोही और निर्वाणी) की पेशवाई सोमवार को भगवान राम के जयघोष के साथ निकली। रामानंदाचार्य हंसदेवाचार्य की अगुवाई में साधु-संत हाथी, घोड़े, बग्घी पर सवार होकर शाही अंदाज में निकले। जगह-जगह फूल मालाओं से स्वागत किया। पेशवाई में शामिल संन्यासियों ने हैरतअंगेज करतब भी दिखाए।
सुबह साढ़े 11 बजे तीनों अनि अखाड़े की ओर से संयुक्त रूप से केपी कॉलेज मैदान से नगर प्रवेश यात्रा (पेशवाई) सीएमपी डॉट पुल को पार करते हुए बैरहना सब्जी मंडी होकर अलोपीबाग पहुंची। यहां से अलोपशंकरी मंदिर, दारागंज स्थित निर्वाणी अनी अखाड़ा के नए ठौर गंगा भवन के सामने से मोरी गेट होते हुए पंच निर्मोही अनी अखाड़े के करीब से शास्त्री पुल के नीचे से काली मार्ग होकर त्रिवेणी मार्ग पर पहुंची। परंपरा के मुताबिक, जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों ने संतों, श्रीमहंतों का माल्यार्पण कर स्वागत किया। इसके बाद पेशवाई पांटून पुल होते हुए पंच निर्मोही अनि अखाड़े के बगल स्थित चतु:संप्रदाय में विराम लिया।
हजारों संत पेशवाई में हुए शामिल
वैष्णव अखाड़ों के जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी हंसदेवाचार्य जी महाराज के अलावा पेशवाई में पंचनिर्मोही अनि में श्रीमहंत राजेंद्र दास, श्रीमहंत रामजी दास, पंचनिर्वाणी अनि अखाड़े में श्रीमहंत व सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मुद्दे के पक्षकार धर्मदास, श्रीमहंत मोहनदास, पंचदिगंबर अनि में श्रीमहंत कृष्ण दास, श्रीमहंत रामकिशोर दास समेत अनेक संत-महात्मा व श्रद्धालु शामिल हुए। पेशवाई की छटा को देखने के लिए सड़क के दोनों तरफ भारी भीड़ रही। लोगों ने संतों को नमन कर उनका आशीर्वाद लिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »