सारे आतंकी पाकिस्तान से आ रहे हैं, यदि पाकिस्‍तान नहीं माना तो बुरा नतीजा होगा: फारूख अब्दुल्ला

जम्मू-कश्मीर के पर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेस के मुखिया फारूख अब्दुल्ला ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा है कि सारे आतंकी पाकिस्तान से आ रहे हैं।
उन्होंने आगे कहा, ‘अगर पाकिस्तान भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो उसे आतंकवाद बंद करना होगा। शांति कायम रखने के लिए पाकिस्तान को अपना रुख बदलना होगा और आतंकवाद बंद करना होगा, यदि पाकिस्तान नहीं माना तो बुरा नतीजा होगा और जंग हो जाएगी।’
जम्मू-कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले की चौतरफा निंदा हो रही है। संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वारा किए गए इस हमले में एक जेसीओ सहित एक जवान भी शहीद हो गया है जबकि जबकि चार लोग घायल हो गए हैं।
जम्मू-कश्मीर में शनिवार को आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले से बढ़े तनाव के बीच भाजपा ने इस हमले के विरोध में विधानसभा में जहां पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगे वहीं फारूख अब्दुल्ला की पार्टी के विधायक अकबर लोन ने सदन में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए। इतना ही नहीं, बाद में खुद को सही ठहराते हुए विधायक ने कहा कि यह उनका अपना मत है और इससे किसी दूसरे को दिक्कत नहीं होनी चाहिए।
यह हमला शनिवार अल सुबह हुआ जब 3-4 आतंकियों ने सुंजवां में आर्मी कैंप के रिहायशी इलाके के पास फायरिंग करते हुए घुसे। बताया जा रहा है कि आतंकी कैंप में टोटा खाड़ नाला की तरफ से दाखिल हुए थे। आतंकियों के कैंप में प्रवेश करने के बाद उन्हें एक क्वार्टर में घेर लिया गया है ताकि वहां रह रहे परिवारों को कोई नुकसान ना पहुंचे। ऑपरेशन के लिए पैरा कमांडो को भी तैनात कर दिया गया है। आइएएफ के पैरा कमांडो को ऊधमपुर और सरसाव से जम्मू बुलाया गया है। उस घर को चारों ओर से घेर लिया गया है, जिसमें आतंकी छिपे बैठे हैं।
सेना के ऑपरेशन पर नजर बनाए हुए है रक्षा मंत्रालय
इस बीच सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को सुंजवां में चल रहे ऑपरेशन और हालिया स्थिति के बारे में जानकारी दी है। अब इस ऑपरेशन में वायु सेना भी शामिल हो गई है। ऑपरेशन के लिए ऊधमपुर से पैरा कमांडो बुला लिए गए हैं। गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय पूरी घटना पर नजर बनाए हुए है।
बता दें कि सुंजवां आर्मी कैंप में सेना के जवानों के हजारों क्वॉटर्स हैं। इसमें करीब तीन हजार जवान रहते हैं। यह जम्मू शहर में ही है। बताया जा रहा है कि कैंप के पीछे की दीवार से कूदकर आतंकी अंदर दाखिल हुए। आतंकियों ने गार्ड्स के बंकर पर सबसे पहले फायरिंग शुरू की। आतंकी अभी भी कैंप के अंदर मौजूद हैं। रुक-रुककर अंदर से फायरिंग की आवाजें आ रही हैं। हमले में एक जवान की बेटी भी घायल हो गई है। वहीं, सेना शिविर के 500 मीटर के आसपास के सभी स्कूलों को जिला प्रशासन द्वारा बंद रहने निर्देश दिए गए हैं।
-एजेंसी