अलका ने पार्टी से पूछा, हमसे क्या भूल हुई जो ये सजा हमको मिली

नई दिल्‍ली। आम आदमी पार्टी (आप) में अलका लांबा को लेकर मचा घमासान अभी शांत होता नहीं दिख रहा। खबर है कि शनिवार को हुई आप की नेशनल काउंसिल की मीटिंग में चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा को नहीं बुलाया गया जबकि इससे पहले हुईं नेशनल काउंसिल की सभी मीटिंग्स में उन्हें हिस्सा बनाया गया था।
लांबा के एक करीबी सूत्र ने बताया कि अलका ने शनिवार सुबह तक के अपने सभी एसएमएस और ईमेल्स चेक किए, उन्हें लगा कि शायद मेसेज उनसे मिस हो गया होगा लेकिन ऐसा नहीं था। इसके बाद 10 बजे करीब अलका ने सोशल मीडिया पर ‘हमसे क्या भूल हुई, जो ये सजा हमको मिली’ गाना शेयर किया। माना जा रहा है कि अलका ने यहां इशारों-इशारों में आप नेतृत्व से सवाल किया था। बता दें कि अलका को यह जानकारी भी मिली की कार्यक्रम में मौजूद अटेंडेंस शीट पर बाकी सभी के साथ उनका भी नाम था। शीट पर सबने साइन भी किए लेकिन अलका नहीं गई थीं इसलिए उनकी जगह खाली रही।
अलका के करीबी सूत्र ने कहा कि सभी विधायकों को ईमेल और एसएमएस भेजे गए थे, बाद में कॉल भी की गई थी लेकिन अलका के पास इनमें से कुछ नहीं आया। अगर आता तो वह जरूर जातीं। सूत्र ने यहां तक कहा कि लांबा को पार्टी के वॉट्सऐप ग्रुप से भी बाहर कर दिया गया है। हालांकि, गोपाल राय के मुताबिक सभी विधायकों को न्योता भेजा गया था।
राजीव गांधी पर हुआ था विवाद
दरअसल, एक आप विधायक ने 1984 दंगों का जिक्र कर कहा था कि राजीव गांधी को दी गई भारत रत्न की उपाधि को वापस लिया जाना चाहिए। इस प्रस्ताव के पक्ष में विधानसभा में बोलने के लिए अलका लांबा को भी कहा गया, लेकिन वह वॉक-आउट कर गईं। इसके बाद लांबा ने कहा था कि पार्टी ने उनका इस्तीफा भी मांगा है। विवाद बढ़ने के बाद मनीष सिसोदिया ने कहा था कि पार्टी की तरफ से ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं रखा गया था। फिर अलका ने भी ट्वीट किया था कि उन्हें खुशी है कि उनकी पार्टी राजीव को भारत रत्न प्रदान किए जाने के खिलाफ नहीं है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »