अलकायदा चीफ ने पाकिस्‍तान से कहा, कश्‍मीर को न भूलें

श्रीनगर। अंतर्राष्‍ट्रीय आतंकवादी संगठन अलकायदा के प्रमुख अयमान अल जवाहिरी ने एक वीडियो मेसेज जारी कर ‘कश्‍मीर में मुजाहिदीनों’ से कहा है कि वे भारतीय सेना और सरकार पर निरंतर हमले करते रहें। यह मेसेज अलकायदा के मीडिया विंग अल शबाब ने जारी किया है। जवाहिरी ने यह भी बताया कि किस तरह से पाकिस्‍तान, कश्‍मीर में सीमापार आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है। उधर, इस धमकी के एक दिन बाद ही बुधवार को बारामूला में सेना में शामिल होने के लिए बड़ी संख्‍या में कश्‍मीरी युवा पहुंचे।
अलकायदा की ओर से जारी संदेश का शीर्षक है, ‘कश्‍मीर को न भूलें।’
अपने संदेश में जवाहिरी ने कहा, ‘(मैं) समझता हूं कि कश्‍मीर में मुजाहिदीन को वर्तमान स्‍तर पर केवल भारतीय सेना और सरकार पर हमले पर फोकस करना चाहिए। इससे भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था कमजोर होगी और उसे कामगारों और सामानों की कमी होगी।’ जवाहिरी ने जहां हाल ही में मारे गए आतंकवादी जाकिर मूसा का जिक्र नहीं किया लेकिन अंसार गजवत-उल-हिंद के इस संस्‍थापक की तस्‍वीर स्‍क्रीन पर दिखाई दी। मूसा कश्‍मीर घाटी में अलकायदा का चीफ था।
जवाहिरी ने अपने संदेश में पाकिस्‍तानी सेना और सरकार को ‘अमेरिका का चापलूस’ करार दिया। उसने दावा किया, ‘पाकिस्‍तान ने रूस के अफगानिस्‍तान से चले जाने के बाद ‘अरब मुजाहिदीन’ को कश्‍मीर जाने से रोका था।’ जवाहिरी ने कहा, ‘पाकिस्‍तानी सेना और सरकार केवल मुजाहिदीनों का विशेष राजनीतिक इस्‍तेमाल करने में रुचि रखती है। बाद में उन्‍हें उनके हाल पर छोड़ देती है या फिर उन पर अत्‍याचार करती है।’
‘कश्‍मीर में लड़ाई अलग संघर्ष नहीं’
अलकायदा चीफ ने यह भी दावा किया कि ‘कश्‍मीर में लड़ाई’ अलग संघर्ष नहीं है बल्कि पूरी दुनिया में मुस्लिम समुदाय द्वारा विभिन्‍न ताकतों के खिलाफ चलाए जा रहे जिहाद का हिस्‍सा है। उसके आतंकी कश्‍मीर में मस्जिदों, बाजारों और जहां मुस्लिम इकट्ठा हों, उसे नुकसान न पहुंचाएं।
उधर, अल कायदा चीफ के इस आह्वान के एक दिन बाद बारामूला में बड़ी संख्‍या में कश्‍मीर युवा सेना में शामिल होने पहुंचे। यह भर्ती 16 जुलाई तक चलेगी।
बताया जा रहा है कि 5500 कश्‍मीर युवा सेना में भर्ती होने के लिए पहुंचे हैं। सेना में शामिल होने आए एक युवा ने कहा, ‘मैं सभी का आह्वान करूंगा कि वे भारतीय सेना में शामिल हों। हालांकि सेना में शामिल होने के लिए कड़ी प्रतिस्‍पर्द्धा है, फिर भी मैं लोगों का आह्वान करुंगा कि वे आएं और इसके लिए साइन करें। एक अन्‍य युवा ने कहा कि उसका हमेशा से ही सपना रहा है कि वह भारतीय सेना में शामिल हो। कश्‍मीर में बहुत बेरोजगारी है और पहला चरण पूरा हो गया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »