अस्‍थाई घर पहुंचे अखिलेश यादव, सरकारी बंगले का जिम तुड़वाया

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सारे फॉर्म्‍यूले अपनाने के बाद भी राहत ना मिलने पर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में आवंटित बंगले (4, विक्रमादित्यमार्ग) को खाली कर दिया। अखिलेश यादव फिलहाल अपने परिवार के साथ वीवीआईपी गेस्ट हाउस में रुकेंगे। इसके बाद जब उनका बंगला सुशांत गोल्फ सिटी में तैयार हो जाएगा तो वह अपने परिवार के साथ वहां पर शिफ्ट हो जाएंगे।
बता दें कि अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव सुशांत गोल्फ सिटी में भी साथ ही रहेंगे। मुलायम सी-3/12 ए में रहेंगे तो उनके बगल में छोटे बेटे प्रतीक का बंगला होगा। मुलायम के बंगले के बाहर सुरक्षाकर्मियों ने लिए केबिन बनने लगा है। वहीं, अखिलेश यादव दो बंगलों को मिलाकर बनाए गए बंगले में रहेंगे। यहां उन्होंने सी-2/0190 नंबर का विला लिया है। यहां नए एसी लगाने के साथ रंगरोगन का काम चल रहा है।
सरकारी बंगले को छोड़ा, जिम को तोड़ा
गौरतलब है कि राज्य सम्पत्ति विभाग के रेकॉर्ड के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सरकारी बंगले पर करीब 42 करोड़ रुपये खर्च हुए थे। बंगले के निर्माण के लिए एक बार 28 करोड़ तो दूसरी बार 14 करोड़ का बजट जारी किया गया था। इसे अखिलेश यादव ने खुद अपनी देखरेख में बनवाया था। लखनऊ के मशहूर आर्किटेक्ट और एसपी के कोषाध्यक्ष संजय सेठ ने अखिलेश यादव और उनके परिवार के मनमुताबिक सारी चीजें बनवाई थीं। यही वजह थी कि शुक्रवार को सामान शिफ्ट करते समय पहली मंजिल पर बने जिम को तोड़ दिया गया।
मुलायम ने बाहर भिजवा दिए गमले
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जारी नोटिस में बंगले खाली करने के लिए दी गई 15 दिन की मियाद शनिवार को पूरी हो गई। इस वजह से दोनों ही पूर्व सीएम ने अपना बंगला खाली कर दिया। सरकारी बंगला खाली करते वक्त जहां एक ओर अखिलेश ने अपने लिए बनवाया जिम तुड़वा दिया तो वहीं समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भी अपने घर में रखे गमले बाहर भिजवा दिए।
मजदूरों से निकलवाया शीशा
पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश जिस आवास में रह रहे थे, उसमें जिम लोहे के एंगल पर छत बनाकर बनवाया गया था। जिम में अत्याधुनिक उपकरण भी अखिलेश यादव ने लगवाए थे। उनके सुरक्षाकर्मियों ने बताया कि अखिलेश पेड़-पौधों के बहुत शौकीन हैं। तमाम पौधे उन्होंने विदेश से मंगवाए थे। इन्हें भी शिफ्ट कर दिया गया है। अखिलेश ने बंगले के ठीक सामने की ओर एक बड़ी खिड़की लगवाई थी, जिस पर शीशा लगा हुआ था। मजदूरों की मदद से यह भी निकलवा दिया गया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »