अखिलेश ने कहा, जहरीली शराब से हुई मौतों की जिम्मेदार है योगी सरकार

लखनऊ। जहरीली शराब से उत्तर प्रदेश में हो रही मौतों पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला है। अखिलेश ने कहा है कि जहरीली मौतों की जिम्मेदार योगी सरकार है। योगी सरकार ने शराब पर गो कल्याण टैक्स लगाया है। लोगों को लगता है कि शराब ज्यादा पिएंगे तो गायों की सेवा अच्छी होगी। उन्हें यह नहीं पता कि शराब कौन सी पीनी है।
अखिलेश ने कहा कि योगी सरकार ने शराब पीने वालों को बढ़ावा दिया है, इसलिए हो सकता है भविष्य में और ज्यादा लोगों की मौतें होंगी। बता दें कि कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरे राज्य में गोशालाएं बनाने के लिए गो कल्याण उपकर (सेस) लगाने का फैसला किया था। इसके तहत 0.5 प्रतिशत सेस शराब के अलावा उन सभी वस्तुओं पर है, जो उत्पाद कर के दायरे में आती हैं।
यूपी में पिछले दो दिनों में जहरीली शराब पीने से 18 लोगों की मौत हो चुकी है। कुशीनगर में 10 और सहारनपुर में 8 लोगों की जान जहरीली शराब ने ले ली। लगातार मौत होने से इलाके में दहशत फैल गई है। प्रशासन में भी हड़कंप मचा हुआ है। कुशीनगर में थानेदार और आबकारी निरीक्षक समेत 9 लोगों को सस्पेंड कर दिया गया है।
अखिलेश ने कहा कि इस सरकार में अपराध कई गुना बढ़ गए हैं। पिछली सरकारों के आंकडे़ देखें तो इस सरकार में अपराध के सारे रेकॉर्ड टूट गए हैं। जेलों से वसूली हो रही है। जेल के अंदर हत्या हो रही है। महिला अपराध कई गुना बढ़ गया है।
‘बीजेपी कर रही अंग्रेजों वाला शासन’
एसपी अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी की सरकार अंग्रेजों के बनाए कानूनों पर चल रही है। किसान तबाह हैं। जब किसानों ने सड़क पर आलू फेंके तो सरकार ने उनके खिलाफ कार्यवाही की। उनके ऊपर जो धाराएं लगाई गईं, वे ऐसी थीं कि किसी को समझ नहीं आईं। जब वकीलों ने बहुत खोजा तो पता चला कि वे धाराएं अंग्रेजों की बनाई हुई थीं और अंग्रेजों के बाद अगर किसी ने उन धाराओं का प्रयोग किया तो वह बीजेपी की सरकार है।
‘हमारे प्रोजेक्ट रंग-पोतकर ला रही सरकार’
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सरकार काम के नाम पर कुछ नहीं कर रही है। हमारी योजनाओं को ही काट-पीटकर और रंग-पोतकर ला रही है। कानपुर, वाराणसी और आगरा सहित शहरों में मेट्रो चलाने के प्रॉजेक्ट हमारी सरकार के थे। इस सरकार ने क्या किया? अगर ऐसा ही है तो गोरखपुर में मेट्रो चलाकर दिखाएं।
‘फेल हुई इन्वेस्टर्स समिट’
पूर्व सीएम ने कहा कि सरकार ने इन्वेस्टर्स समिट कराने में हजारों रुपये बहा दिए। 4.7 लाख करोड़ के एमओयू साइन हुए थे, वह कहां गए? आधा ही निवेश प्रदेश में आ जाता, अगर वह भी नहीं तो कम से कम एक लाख करोड़ ही आ जाता। कोई एक पैसे का निवेश यूपी में नहीं हुआ। इंवेस्टर्स समिट फेल हो गई। अगर निवेश आता तो बजट में दिखता।
‘हमारा काम नहीं बोला तो उनके एक्सप्रेसवे भी नहीं बोलेंगे ‘
उन्होंने कहा कि सरकार उनकी नकल करके एक्सप्रेसवे बना रही है हालांकि बना लें तब है। अखिलेश ने कहा कि पिछले चुनाव में वह काम बोलता है चिल्लाते रहे लेकिन कुछ नहीं हुआ। उनकी मेट्रो और एक्सप्रेसवे नहीं बोले तो बीजेपी के एक्सप्रेसवे भी नहीं बोलेंगे।
‘चुनाव काम पर नहीं होता’
अखिलेश ने कहा कि सीएम योगी की गोरखपुर से क्या दुश्मनी है? वहां न तो मेट्रो चली न ही कोई विकास के काम हुए। अस्पतालों में मरीजों को इलाज नहीं मिल रहा है। हालांकि चुनाव काम पर नहीं होता। किसी और बात पर होता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »