01 जून से महंगा होने जा रहा है हवाई सफर, 16 फीसदी तक का इजाफा

नई दिल्‍ली। कोरोना काल में देश के भीतर हवाई यात्रा महंगी होने जा रही है। केंद्र सरकार ने हवाई किराये की न्यूनतम सीमा को 16 फीसदी तक बढ़ाने को मंजूरी दे दी है। हवाई किराये की निचली सीमा में 13 से 16 फीसदी तक इजाफा किया गया है। यात्री किराये में यह बढ़ोत्तरी एक जून से लागू होगी। मंत्रालय ने एक आदेश में कहा है कि किराये की ऊपरी सीमा में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों का निलंबन 30 जून तक बढ़ा दिया गया है।
सरकार का कहना है कि उसने कोरोना वायरस की दूसरी लहर से प्रभावित एयरलाइन कंपनियों को राहत देने के लिए यात्री किराये में बढ़ोत्तरी की है। महामारी के चलते हवाई यात्रियों की संख्या में काफी गिरावट आई है। मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने एक बयान में कहा गया कि 40 मिनट तक की अवधि के लिए किराया 2,300 रुपये से बढ़ाकर 2,600 रुपये कर दिया गया है। इसमें 13 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की गई है। 40 मिनट से 60 मिनट तक के लिए न्यूनतम किराया 2,900 रुपये के बदले 3,300 रुपये होगा।
अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों का रोक 30 जून तक बढ़ी
पिछले साल दो महीने के लॉकडाउन के बाद 25 मई को घरेलू उड़ान सेवाओं को फिर से बहाल किया गया था। तब सरकार ने उड़ान के समय के आधार पर किराये में लोअर और अपर लिमिट निर्धारित की थी। इस बीच महामारी के कारण शेड्यूल्ड अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानों पर लगी रोक को 30 जून तक बढ़ा दिया गया है। हालांकि, नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने कहा कि अलग-अलग मामलों के आधार पर चुनिंदा रूटों पर सक्षम अधिकारियों द्वारा शेड्यूल्ड अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों की अनुमति दी जा सकती है।
देश में अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवा 23 मार्च 2020 से बंद है लेकिन मई 2020 से वंदे भारत मिशन के तहत अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन किया जा रहा है। इसके अलावा कुछ चुने हुए देशों के साथ जुलाई 2020 से एयर बबल समझौते के तहत भी यात्री विमानों का परिचालन किया जा रहा है। अमेरिका, यूएई, केन्या, भूटान और फ्रांस समेत 27 देशों के साथ भारत ने एयर बबल समझौता किया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *