Air Strike पर वायुसेना चीफ ने कहा: टारगेट हिट करना हमारा काम, नंबर गिनना नहीं

नई दिल्‍ली। वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने विपक्षी दलों ने बालाकोट Air Strike हमले का सबूत मांगने के बीच साफ किया कि भारतीय लड़ाकू विमानों ने अपना टारगेट हिट किया है। उन्होंने कहा कि टारगेट हिट करने के बाद उनका काम नंबर गिनना नहीं है। उन्‍होंने किसी का नाम लिए बिना कहा कि किसी के सवाल उठाने से हमारे ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ता और हमारा काम जारी है। हम अपना काम आगे भी पूरा करते रहेंगे।
पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के ठिकानों पर Air Strike पर पड़ोसी मुल्क और कांग्रेस के सवालों के बीच वायुसेना ने सोमवार को साफ किया कि बम लक्ष्य पर गिराए गए हैं। वायुसेना अध्यक्ष धनोआ ने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता तो फिर इस बारे में आधिकारिक बयान क्यों जारी किया जाता।
एयर चीफ धनाओ से जब सवाल किया गया कि पाकिस्तान अभी भी बालाकोट में आतंकी ठिकानों को निशाना बनाए जाने की बात को खारिज कर रहा है, तो उन्होंने कहा कि, ‘अगर हमने टारगेट हिट करने का प्लान बनाया था, तो हमने टारगेट हिट किया है। ‘
उन्होंने विदेश सचिव के बालाकोट हमले में दिए गए आधिकारिक बयान का जिक्र करते हुए कहा कि अगर हम टारगेट हिट नहीं किया होता, तो फिर वह क्यों बयान जारी करते। अगर हमने जंगल में बम गिराए होते, तो वह इस पर कुछ क्यों कहते। उन्हें (पाकिस्तान) जवाब देने की क्या जरूरत थी।
मिग-21 बाइसन के इस्तेमाल पर
मिग-21 बाइसन का इस्तेमाल क्यों किया गया, इस सवाल के जवाब में वायुसेना प्रमुख ने कहा कि वह अपग्रेडेड विमान था और हम अपने सभी उपलब्ध विमानों का इस्तेमाल करेंगे। उन्होंने कहा, ‘मिग-21 बाइसन एक अच्छा विमान है, उसे अपग्रेडेड किया गया है। वह बेहतर रेडार, एयर-टु-एयर मिसाइलें और बेहतर वीपन सिस्टम से लैस है। उसे अपग्रेड कर 3.5 जेनरेशन का कर दिया गया है…हम अपने पास मौजूद सभी विमानों का इस्तेमाल करेंगे।’ उन्होंने कहा कि प्लान्ड ऑपरेशन में आप योजना बनाते हैं कि कैसे करेंगे, लेकिन दुश्मन की कार्यवाही के जवाब में उस वक्त जो भी विमान उपलब्ध होगा, उसका इस्तेमाल करते हैं।
बता दें कि बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंप पर इंडियन एयरफोर्स की Air Strike के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने पिछले हफ्ते भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमले की नाकाम कोशिश की थी। इस दौरान भारतीय लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान के F-16 विमानों को न सिर्फ खदेड़ दिया था, बल्कि एक F-16 को मार भी गिराया था, जिसका मलबा पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले कश्मीर में गिरा था। इस दौरान भारत का एक मिग-21 हादसे का शिकार हो गया था, जिसके पायलट विंग कमांडर अभिनंदन पैराशूट से POK में उतरे थे। भारत के दबाव के बाद पाकिस्तान ने बाद में उन्हें लौटा दिया।
विंग कमांडर अभिनंदन के दोबारा विमान उड़ाने पर
विंग कमांडर अभिनंदन कब दोबारा लड़ाकू विमान उड़ा सकेंगे, इसके जवाब में उन्होंने कहा कि यह उनकी मेडिकल फिटनेस पर निर्भर करता है। वायुसेना प्रमुख ने कहा, ‘उनका फिर से फाइटर प्लेन चलाना उनकी मेडिकल फिटनेस पर निर्भर करता है…एक बार जब मेडिकल फिटनेस मिल जाएगी…वह विमान उड़ा सकेंगे।’
कांग्रेसी नेता सिब्‍बल और चिदंबरम ने उठाए थे सवाल
भारत द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर की गई Air Strike पर अब सियासत भी तेज हो गई है। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने इंटरनेशनल मीडिया की रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी से जवाब मांगा है। उन्होंने कहा कि इंटरनेशल मीडिया कह रहा है कि कोई आतंकी नहीं मारा गया है और इस पर जवाब दिया जाना चाहिए। पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने इस हमले में हताहतों की संख्या सामने आने पर सवाल उठाए। पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने भी सेना के राजनीतिकरण बंद करने की मांग की।
बता दें कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी Air Strike के सबूत मांगे हैं।
गौरतलब है कि पीएम मोदी ने रविवार को पटना में एनडीए की रैली के दौरान विपक्ष द्वारा Air Strike के सबूत मांगने पर जमकर निशाना साधा था। पीएम ने कहा था कि विपक्ष की इस मांग से पाकिस्तान तालियां बजा रहा है।
पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय वायुसेना के वाइस एयर मार्शल ने हताहतों पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया कि कोई नागरिक या सैनिक हताहत नहीं हुआ तो हताहतों की संख्या 300-350 किसने बताई?
बता दें कि बीजेपी चीफ अमित शाह ने रविवार को अहमदाबाद में एक कार्यक्रम में कहा था कि भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक में 250 आतंकी मारे गए थे।
चिदंबरम ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘एक गौरवशाली नागरिक के तौर पर मैं अपनी सरकार पर भरोसा करने के लिए तैयार हूं लेकिन अगर हम ये चाहते हैं कि दुनिया को भी भरोसा हो तो सरकार को विपक्ष को कोसने की बजाए इसके लिए प्रयास करने चाहिए।’
सिद्धू ने पूछा-कितने मरे?
सिद्धू ने ट्वीट कर पूछा 300 आतंकवादी मरे, हां या नहीं? उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि सेना का राजनीतिकरण बंद होना चाहिए।
दिग्विजय सिंह ने पूछे से सवाल
गौरतलब है कि इससे पहले मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी बालाकोट में की गई Air Strike के सबूत जारी करने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि जिस तरह अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन के खिलाफ कार्यवाही के सबूत जारी किए थे, उसी तरह हमें भी सबूत जारी करने चाहिए।
सिंह ने कहा था, ‘मैं सेना की कार्यवाही पर कोई सवाल नहीं खड़े कर रहा। यह तकनीक का युग है, आज हम बात कर रहे हैं, यह किसी से छुपा नहीं है। खुले में तो सैटलाइट के माध्यम से सारी तस्वीरें सामने आ जाती हैं। जिस तरह के प्रमाण अमेरिका की सरकार ने ओसामा बिन लादेन के बारे में पूरे विश्व को दिए थे, उसी तरह के प्रमाण हमें भी देने चाहिए।’
ममता बनर्जी का प्रश्न
उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कुछ दिन पहले कहा था कि देश को यह जानने का हक है कि बालाकोट में हवाई हमले के बाद वाकई क्या हुआ क्योंकि कई विदेशी मीडिया ने खबर दी है कि हवाई हमले में ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »