अगस्ता वेस्टलैंड मामले का बिचौलिया Christian Mitchell यूएई में लापता

नई दिल्‍ली। अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर घोटाले में ब्रिटिश बिचौलिया Christian Mitchell लापता हो गया है। मंगलवार को दुबई की एक अदालत द्वारा मिशेल के भारत को प्रत्यर्पण का आदेश दिया था, इस आदेश के कुछ ही घंटे बाद Christian Mitchell के वकील ने यह जानकारी दी कि मिशेल लापता हो गया है।

अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर घोटाले में ब्रिटिश बिचौलिया Christian Mitchell को पिछले साल UAE में गिरफ्तार किया गया था, और बाद में वह ज़मानत पर रिहा कर दिया गया था। वह VVIP हेलीकॉप्टरों के इस सौदे में कथित रूप से रिश्वत के लेनदेन का इंतज़ाम करने के लिए भारत में वांछित है। उसके वकील अमल अलसुबेई ने कहा कि जब से कोर्ट ने आदेश दिया है, तब से उसे ढूंढा नहीं जा सका है। अलसुबेई ने कहा, “अगर वह मिल गया, तो उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा… मिशेल द्वारा सुप्रीम कोर्ट में अपील किए जाने की संभावना है…। ”

अगस्ता वेस्टलैंड केस 12 लक्ज़री हेलीकॉप्टरों की खरीद से जुड़ा है, जो राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा पूर्व प्रधानमंत्रियों सहित शीर्ष नेताओं के इस्तेमाल के लिए खरीदे जाने थे। सौदा तब हुआ था, जब डॉ मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली UPA सरकार सत्तासीन थी।  वर्ष 2014 में सरकार ने उस वक्त सौदा रद्द कर दिया था, जब अगस्ता वेस्टलैंड पर भारत में किकबैक (दलाली) देने के आरोप लगे थे, और अगस्ता वेस्टलैंड की पेरेंट कंपनी फिनमैकानिका भी इटली में रिश्वत देने के आरोपों में फंस गई थी।

जुलाई में Christian Mitchell के वकील ने कहा था कि उन पर भारतीय एजेंसियां दबाव डाल रही हैं कि कांग्रेस नेता सोनिया गांधी को इस मामले में फंसा दिया जाए, और बदले में उन्हें आपराधिक कार्रवाई में राहत दे दी जाएगी।

भारतीय वायुसेना के पूर्व प्रमुख 72-वर्षीय एसपी त्यागी को वर्ष 2016 में गिरफ्तार किया गया था और उन पर आरोप था कि उन्होंने अपने भाइयों के कहने पर चॉपरों की स्पेसिफिकेशन बदलवा दी थीं। एसपी त्यागी देश के पहले सेनाप्रमुख (मौजूदा या सेवानिवृत्त) थे जिन्हें गिरफ्तार किया गया हो हालांकि अब उन्‍हें ज़मानत मिल गई है।

Christian Mitchell के भारत आने पर सुरक्षा एजेंसियां उससे पूछताछ करेंगी और इससे घोटाले की कड़ियों को जोड़ने में मदद मिलेगी

भारतीय सुरक्षा अधिकारियों का मानना है कि मिशेल के प्रत्यर्पण से घोटाले की उन बातों का खुलासा हो सकेगा जिनसे अभी पर्दा नहीं उठ सका है। मिशेल के भारत आने पर सुरक्षा एजेंसियां उससे पूछताछ करेंगी और इससे घोटाले की कड़ियों को जोड़ने में मदद मिलेगी। मिशेल पूछताछ में उन नामों का खुलासा कर सकता है जिन्होंने इस वीवीआईपी डील अगस्ता वेस्टलैंड के पक्ष में करने के लिए रिश्वत ली। एक अधिकारी ने बताया, ‘केवल मिशेल ही बता सकता है कि ‘एपी’, ‘पीओएल’, ‘बीयूआर’, और ‘एएफ’ कौन है। मिशेल को नामों वाला यह नोट रिश्वत देने के लिए मिला था।’

मिशेल का प्रत्यर्पण हो जाने पर राजग सरकार के लिए राहत के तौर पर देखा जा सकता है। बढ़ती महंगाई और डॉलर के मुकाबले रुपए के गिरते स्तर को लेकर कांग्रेस सहित विपक्ष उस पर हमलावर हैं। राफेल डील और आर्थिक भगोड़े विजय माल्य एवं नीरव मोदी को लेकर मोदी सरकार को घेरने में कांग्रेस कोई मौका नहीं छोड़ रही है। इन मसलों पर कांग्रेस और विपक्ष के हमलों से सरकार बैकफुट पर है। समझा जाता है कि मिशेल के प्रत्यर्पण से भाजपा यूपीए सरकार के दौरान हुए इस घोटाले को लेकर कांग्रेस पर और आक्रामक होगी।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »