एनआईए ने फिर की छापेमारी, सात ठिकानों पर पहुंची टीम

आईएसआईएस मॉड्यूल का खुलासा होने के बाद एनआईए के छापे लगातार जारी हैं। इस मामले में नेशनल इनवेस्टिगेशन टीम (एनआईए) ने एक बार फिर ताबड़तोड़ छापेमारी की है। यह छापेमारी पंजाब और वेस्टर्न यूपी के सात ठिकानों पर की गई है। एनआईए की टीम यूपी के अमरोहा और हापुड़ सहित अन्य जगहों पर पहुंची और यहां छापेमारी की। इस दौरान हापुड़ जनपद के दो गांव अठसैनी व बदरखा में छापेमारी कर तीन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया। इन तीनों से पूछताछ की जा रही है।
तीन हिरासत में लिए गए
हापुड़ के दो गांव अठसैनी व बदरखा में छापेमारी के बाद एनआईए ने तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है। इन तीनों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों से कोतवाली गढ़ में पूछताछ की जा रही है। वहीं एक पखवाड़े पूर्व सिंभावली के गांव वैठ में छापा मारकर मौलवी शाकिब को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।
लुधियाना में मौलवी समेत 6 पकड़े
एनआईए ने पंजाब पुलिस के साथ मिलकर लुधियाना-चंडीगढ़ रोड पर मेहरबान नामक गांव की मस्जिद के मौलवी मौहम्मद ओवेस पाशा को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए मौलवी का आईएसआईएस मॉड्यूल से संबंध होने की आशंका है और वह सात महीने पहले लुधियाना आया था और उससे पहले यूपी के एक मदरसे में पढ़ रहा था। उसके अलावा पांच अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया गया है।
26 दिसंबर को एनआईए ने आईएसआईएस मॉड्यूल ‘हरकत उल हर्ब ए इस्लाम’ का खुलासा किया था। इस सिलसिले में उत्तर प्रदेश और नई दिल्ली समेत 16 जगहों पर छापेमारी की गई थी। साथ ही 10 लोगों को हिरासत में लिया गया था, जिसमें से पांच को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले के रहने वाले थे। इस खुलासे के बाद एनआईए की टीम लखनऊ भी पहुंची थी और यहां से भी एक मां-बेटे को हिरासत में लिया था।
एक गांव में 26 दिसंबर के बाद से 6 बार छापे
‘हरकत उल हर्ब ए इस्लाम’ के खुलासे के बाद हिरासत में लिए गए लोगों ने पूछताछ में कई लोगों के नाम लिए। इसके बाद एनआईए ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ कई छापे मारे। मेरठ के एक गांव में तो एनआईए तब से छह बार छापेमारी कर चुकी है।
चार दिन पहले छोड़ा गया था युवक
चार दिन पहले एनआईए ने हापुड़ के पिपलैंडा गांव के रहने वाले ताहिर के घर पर 70 स्टाफ की टीम के साथ दबिश दी थी। दबिश मेरठ के गांव जरोड़ा निवासी मौलाना अफसार की निशानदेही पर दी गई। इस दौरान शहजाद को हिरासत में लिया गया। टीम ने शहजाद के पास कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज, किताब और चिप भी बरामद की थीं। 16 घंटे की कड़ी पूछताछ के बाद उसे चार दिन पहले छोड़ा गया था। सूत्रों की मानें तो उसकी निशानदेही पर ही एनआईए आगे छापेमारी कर रही है।
‘किताब और चिप के बारे में पूछा’
शहजाद ने बताया कि एनआईए के साथ मेरठ के जसौरी गांव निवासी मौलाना अफसार भी था। टीम ने सिर्फ इतना ही पूछा कि उर्दू, अरबी की किताबें व चिप कहां से आई। उसने बताया कि ये चीजें कुछ समय पहले मौलाना अफसार ने रखने के लिए दी थीं। उसे नहीं पता चिप और किताब में क्या है। इसके बाद टीम ने छानबीन करने के बाद क्लीन चिट दे दी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »