यूपी के बाद गुजरात और Maharashtra में भी शहरों के नाम बदलने की तैयारी

अहमदाबाद का नाम कर्णावती, Maharashtra में औरंगाबाद का संभाजी नगर व उस्‍मानाबाद का नाम धारशिव रखने पर गंभीरता से विचार

मुंबई। उत्तर प्रदेश सरकार के बाद गुजरात सरकार ने अहमदाबाद और Maharashtra सरकार ने औरंगाबाद व उस्‍मानाबाद का नाम बदलने की तैयारी कर ली है। अहमदाबाद का नाम कर्णावती, औरंगाबाद का संभाजी नगर व उस्‍मानाबाद का नाम धारशिव रखने पर गंभीरता से विचार चल रहा है।

हम अहमदाबाद का नाम बदलने पर विचार कर रहे हैं: विजय रूपाणी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम अयोध्या करने का फैसला लेने के बाद अब गुजरात के अहमदाबाद का नाम बदलने की कोशिशें तेज हो गई हैं। बुधवार को गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन भाई पटेल ने कहा था कि सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने का विचार कर रही है। इसके बाद गुरुवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी इस पर मुहर लगा दी है। अगर ऐसा हुआ तो अहमदाबाद शहर का नाम कर्णावती हो जाएगा।

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल ने कहा है कि पिछले काफी समय से अहमदाबाद का नाम बदलने की मांग की जा रही है। अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग हो रही है। उन्होंने कहा कि कानूनी कार्रवाई को पूरा करने में हमें लोगों का सहयोग मिला तो हम नाम बदलने को तैयार हैं। उन्होंने कहा था कि लोग अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब सही समय आएगा तो इसे बदल दिया जाएगा।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि हम अहमदाबाद के नाम को कर्णावती में बदलने पर विचार कर रहे हैं, जिस पर बातचीत लंबे समय से चल रही है। कानूनी और अन्य सभी बातों को देखने के बाद ठोस कदम उठाए जाएंगे। आने वाले समय में हम इसके बारे में सोचेंगे।

Maharashtra की दो जगहों के नाम बदलने की तैयारी

अब इस कड़ी में एक और नाम जुड़ने वाला है। शिवसेना ने महाराष्ट्र की दो जगहों के नाम बदलने की तैयारी कर ली है।
शिवसेना नेता मनीषा कायंदे ने कहा कि औरंगाबाद और उस्मानाबाद को संभाजी नगर और धारशिव में बदलने की शिवसेना की मांग नई नहीं है। मनीषा ने कहा कि हमारी यह मांग लंबे समय से चली आ रही है जिसे कई बार उठाया जा चुका है।

कांग्रेस और एनसीपी पर हमला करते हुए कायंदे ने कहा कि मुस्लिम मतदाताओं को खुश करने के लिए दोनों पार्टीयां औरंगाबाद और उस्मानाबाद के नाम बदलने का विरोध कर रही हैं।

ऐसे बदलता है शहर का नाम
– किसी शहर के स्थानीय लोग या जनप्रतिनिधि नाम बदलने का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजे
– राज्य मंत्रिमंडल प्रस्ताव पर विचार करती है और मंजूरी देने के बाद राज्यपाल की सहमति को भेजती है
– राज्यपाल प्रस्ताव पर अनुंशसा देने के साथ अंतिम मंजूरी के लिए केंद्रीय गृहमंत्रालय को भेजता है
– गृहमंत्रालय से हरी झंडी मिलने के बाद राज्य सरकार नाम बदलने की अधिसूचना जारी करती है

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »