चौपाल लगाने के बाद Hamirpur के जिस गांव में सोए मंत्री व डीएम, उसी में लगी आग, 17 घर स्‍वाहा

हमीरपुर। प्रभारी मंत्री मनोहरलाल पंत ने बुधवार रात Hamirpur में चिकासी थानाक्षेत्र के मगरौठ गांव में चौपाल लगायी थी। वह गांव वालों को सभी समस्याएं सुलझाने का आश्वासन देकर वहीं सो गए।

डीएम से लेकर पूरा प्रशासनिक अमला भी गांव में ही रात्रि विश्राम कर रहा था। आधी रात आंधी आयी तो गांव वाले दौड़-भाग करने लगे, बाहर पंडाल में सोए सरकारी कर्मचारी भी अंदर भागे।

इस बीच गांव के एक किनारे एक के बाद एक दर्जन भर से अधिक मकान धू-धू कर जलने लगे। गांव में हड़कंप मच गया, सारे लोग आग बुझाने दौड़े तो मंत्री और डीएम भी पूरे अमले के साथ पहुंच गए। बामुिश्कल तड़के आग बुझ पायी, तब तक 17 मकान पूरी तरह खाक हो चुके थे।

लोगों ने बताया कि घूरे में सुलग रही चिंगारी देर रात आंधी आने पर भड़क उठी जिसने देखते ही देखते आसपास के मकानों को अपनी चपेट में ले लिया। धू-धू कर जल रहे मकानों को देख ग्रामीण परिवार सहित घरों से बाहर की तरफ भाग निकले। गांव में चौपाल व रात्रि प्रवास के चलते गांव में मौजूद जिले के प्रभारी मंत्री व जिला प्रशासन आग की सूचना के बाद प्रशासनिक अमला आग बुझाने में जुट गया। तड़के तीन बजे के बाद आग पर काबू पाया जा सका। सुबह से जिला प्रशासन राहत व बचाव कार्य में जुटा हुआ है।

ग्रामीणों के अनुसार दमकल दस्ते के सूचना दी गई किन्तु क्षेत्र की गाड़ी जराखर गांव में खेत में लगी आग बुझाने गई थी। Hamirpur मुख्यालय सहित पड़ोसी जनपद जालौन से दमकल गाड़ियां बुलाई गईं किन्तु आंधी के कारण रास्ते अवरुद्ध होने से दमकल दस्ता समय से नहीं पहुंच सकी। जिलाधिकारी आरपी पांडेय व राजस्व कर्मियों की मदद से ग्रामीण आग बुझाने में जुटे रहे। करीब 2 घंटे बाद मौके पर पहुंचे अग्निशमन कर्मियों ने कड़ी मशक्कत के बाद तड़के आग पर काबू पा सके। इसके बाद भी गुरुवार को तमाम मकानों में आग सुलग रही थी।

ग्राम स्वरोजगार अभियान के तहत गांव में रात्रि प्रवास कर रहे प्रभारी मंत्री मनोहरलाल पंत ने अग्नि पीड़ित परिवारों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी और प्रभावित परिवारों को जल्द राहत मुहैया कराने के निर्देश जिला प्रशासन को दिए। गांव के बाबूलाल रैकवार के पुत्र शीलेन्द्र की बारात आज जानी थी। घर में रखे जेवरात चोरी चले गए और दो लाख रुपए आग में जल गये। शादी में मुश्किलें खड़ी हो गईं। जिला प्रशासन प्रयास कर रहा है कि कन्या पक्ष को गांव बुलाकर दोनों की शादी कराई जा सके।

ग्रामीणों ने बताया कि आग की सूचना पाते ही राज्यमंत्री मनोहरलाल पंत अधिकारियों के साथ अग्नि पीड़ित परिवारों से रात में ही मिले लेकिन बचाव कार्य में बाधा की वजह से उन्हें वापस विश्राम स्थल भेज दिया गया हालांकि Hamirpur मुख्यालय सहित पड़ोसी जनपद जालौन से दमकल गाड़ियां बुलाई गईं किन्तु आंधी के कारण रास्ते अवरुद्ध होने से दमकल दस्ता समय से नहीं पहुंच सकी।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »