‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के बाद अब आसाराम पर फिल्‍म बनाएंगे सुनील बोहरा

मुंबई। बायॉपिक के इस दौर में अगला नाम है आसाराम पर बनी बायॉपिक फिल्म का, जिसे बनाने की तैयारी में हैं ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के प्रोड्यूसर सुनील बोहरा। बताया जा रहा है कि उन्होंने राइट्स भी खरीद लिए।
बॉलिवुड में पिछले कुछ सालों से बायॉपिक फिल्मों का चलन काफी बढ़ गया है। अब तक ऐक्टर्स, नेताओं और खिलाड़ियों पर कई बायॉपिक फिल्में बन चुकी हैं। अब चर्चा है एक नई बायॉपिक फिल्म की, जो बलात्कार के आरोप में जेल की सजा काट रहे आसाराम पर बेस्ड बताई जा रही है।
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के प्रोड्यूसर सुनील बोहरा इस फिल्म को बनाने की प्लानिंग कर रहे हैं।
बताया जाता है कि सुनील उशीनर मजूमदार के नॉवल ‘गॉड ऑफ सिन : द कल्ट, द क्लाउट एंड डाउनफॉल ऑफ आसाराम बापू’ पर फिल्म बनाएंगे और उन्होंने फिल्म को बनाने के राइट्स भी पिछले महीने ही खरीद लिए हैं। इस नॉवल में आसाराम के उत्थान से लेकर साल 2013 में रेप के आरोप के बाद से उनके पतन तक के सफर की कहानी लिखी गई है।
रिपोर्ट्स की मानें तो सुनील बोहरा का कहना है कि उन्होंने यह किताब पढ़ी है और वह पीसी सोलंकी से काफी प्रभावित हुए जिन्होंने पीड़ित लड़की का फ्री में केस लड़ा और उसे इंसाफ भी दिलाया। उन्होंने यह भी कहा है कि इस केस से जुड़ी सूरत और जोधपुर जेल की दो महिला पुलिस अफसरों ने भी उन्हें इस बायॉपिक को बनाने के लिए प्रेरित किया है। सुनील का कहना है कि उनकी यह फिल्म इन्ही रियल हीरोज और फैक्ट्स पर बेस्ड होगी।
हालांकि, यहां यह भी बता दें कि फिलहाल फिल्म के कास्ट को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। बताया जा रहा है कि जल्द ही राइटर्स से मिलकर फिल्म की टीम को लेकर फैसला लिया जाएगा। सुनील ने कहा है कि जैसे ही स्क्रिप्ट तैयार होगी, कास्ट भी फाइनल कर लिए जाएंगे।
कभी 5 हजार करोड़ रुपए का था आसाराम का साम्राज्य
कभी हिंदू धर्मगुरु कहलाने वाला आसाराम बलात्कार के आरोप में जेल की सजा काट रहा है। आसाराम बापू का जन्म 17 अप्रैल 1941 में पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हुआ था। बंटवारे के बाद आसाराम का परिवार भारत में आकर बस गया था। आसाराम ने अपने धार्मिक जीवन की शुरुआत 1971 में साबरमती नदी के किनारे एक छोटी सी कुटिया से की थी, जो आज देश और विदेश में 400 आश्रमों में तब्दील हो चुकी है। हिंदू संतों के संगठन अखिल भारतीय आखाड़ा परिषद ने आसाराम का नाम फर्जी संतों की सूची में शामिल किया है।
केवल दो दशकों में आसाराम के लाखों अनुयायी बन गए और भारत के अलावा हॉन्ग-कॉन्ग, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और यूएस में भी आसाराम के आश्रम शुरू हो गए। साल 2008 में आसाराम बापू का साम्राज्य 5 हजार करोड़ रुपए का था। बलात्कार के आरोप में आसाराम 2013 से जेल में बंद है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »