Al-Qaeda की नापाक अपील: भारतीय मुसलमान भी जिहाद में शामिल हों, हथियार उठाएं

नई द‍िल्ली। वैश्विक आतंकवादी समूह Al-Qaeda अरब पेनिन्सुला (AQAP) ने भारतीय मुसलमानों और समुदाय के विद्वानों से भारत के खिलाफ जिहाद में हाथ मिलाने की नापाक अपील की है। Al-Qaeda ने सीएए का हवाला देकर मुसलमानों से कथित भेदभाव की बात कहते हुए हथियार उठाने और भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने को कहा। हालांकि आतंकवादी संगठन यह भूल गया कि उसके अलावा पाकिस्तान, और इस्लामिक स्टेट ने भी कई बार भारतीय मुसलमानों को उकसाने की कोशिश की, लेकिन उनके कट्टर और हिंसक विचारों को हर बार यहां खारिज किया गया।

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों का कहा है कि अलकायदा के मिडिल ईस्ट विंग का यह बयान वैश्विक आतंकवादी समूह और पाकिस्तान के इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के बीच तालमेल को उजागर करता है, जो भारत में अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभाव का नैरेटिव बनाना चाहते हैं।

आतंकवादी समूह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का जिक्र किया है, जो तीन पड़ोसी देशों पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक आधार पर प्रताड़ित किए गए छह समुदायों के लोगों को आसानी से नागरिकता प्रदान करने के लिए लाया गया है। इस कानून को 5 महीने पहले दिसंबर 2019 में संसद से पास किया गया था।

सुरक्षा प्रतिष्ठान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सीएए का संदर्भ लेकर वैश्विक आतंकवादी समूह भारत के खिलाफ पाकिस्तान के सोशल मीडिया अभियान को समर्थन देने के अलावा मुस्लिम बाहुल्य वाले खाड़ी देशों के साथ भारत का रिश्ता खराब करना चाहता है और भारतीय मुसलमानों को भड़काना चाहता है।

अधिकारी ने कहा, ”हम शुरुआत से सोशल मीडिया कैंपेन को ट्रैक कर रहे हैं और 2,794 ट्विटर हैंडल्स की पहचान की है जिन्होंने इस सूचना युद्ध में सबसे अधिक सक्रिय भूमिका निभाई है। मुस्लिम अधिकारी को लेकर भारत और भारत सरकार के खिलाफ हर हैशटैग को हम ट्रेस करने में सफल रहे हैं और इनमें से सभी हमें पाकिस्तान के अकाउंट तक ले जाता है।” अधिकारी ने कहा, ”भारत के कुछ अच्छे लोग भी इस कैंपेन में फंस जाते हैं जिस तरह गल्फ के लोग झांसे में आ जाते हैं, उन्हें बड़ी तस्वीर का अहसास नहीं होता है।”

एक इंटेलिजेंस अधिकारी ने कहा कि अल कायदा का आईएसआई की कोशिश में शामिल होना वैश्विक जिहाद के लिए वह नैरेटिव बनाने की कोशिश है जिसके लिए कई सालों से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कोशिश करते रहे और फिर यह जिम्मेदारी आईएसआई ने ली।
– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *