COVID19 के बाद बढ़े मनोरोगी, KD हॉस्पिटल दे रहा है परामर्श

मथुरा। COVID19 संक्रमण और लॉकडाउन के चलते इस समय हर कोई चिन्ताग्रस्त है, किसी की भी समझ में नहीं आ रहा कि आगे क्या होगा? फिलवक्त KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के मनोचिकित्सा विभाग द्वारा संचार के विभिन्न माध्यमों मोबाइल, टेक्स्ट मैसेज, वाट्सऐप, ईमेल आदि के जरिए मनोरोगियों को लगातार परामर्श दिया जा रहा है। अब तक लगभग चार सौ से अधिक लोग टैली मनोचिकित्सा का लाभ उठा चुके हैं।

KD हॉस्पिटल के विशेषज्ञ मनोचिकित्सक डाॅ. गौरव सिंह का कहना है कि COVID19 लॉकडाउन का समय बढ़ने के साथ मथुरा जनपद में मनोरोगियों की संख्या में भी काफी इजाफा हुआ है। ज्यादातर लोग अपने परिवार के साथ हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने परिवार से दूर फंस गए हैं, ऐसे लोगों पर मानसिक दबाव काफी बढ़ गया है। इसके अलावा मनोरोगियों को अस्पताल पहुंचने और दवा खरीदने में भी परेशानी हो रही है। दवा की अनुपलब्धता और समय से मनोरोगियों को दवा न मिलने से उनका विकार ठीक होने की बजाय उसकी गति थमने सी लगी है।

मथुरा जनपद के ऐसे लोगों को घर बैठे परामर्श और चिकित्सा लाभ पहुंचाने के लिए KD हॉस्पिटल के मनोचिकित्सा विभाग की साइकोलॉजिकल सपोर्ट टीम लगातार टैली काउंसलिंग कर रही है। इस टीम में डाॅ. गौरव सिंह. डाॅ. श्वेता चौहान, डाॅ. कमल किशोर, सचिन कुमार गुप्ता आदि शामिल हैं।

डाॅ. गौरव सिंह का कहना है कि अब तक साइकोलॉजिकल सपोर्ट टीम द्वारा चार सौ से अधिक लोगों से कालिंग के माध्यम से सम्पर्क किया गया है और सफल काउंसलिंग हुई है, इसमें KD हॉस्पिटल में भर्ती COVID19 पाजिटिव मरीज एवं उनके परिजन भी शामिल हैं। KD मेडिकल कॉलेज में हर कोरोना संक्रमित मरीज से प्रतिदिन टैलीसाइकेट्री के माध्यम से काउंसलिंग की जाती है और बीमारी से लड़ने की मानसिक क्षमता विकसित की जाती है। देखा जा रहा है कि अधिकतर मरीज आइसोलेशन वार्ड में कितने दिन रहना होगा, हम घर कब जाएंगे, हम घर में क्वारंटाइन रह सकते हैं तो यहां क्यों रखा गया है, उन्हें अपने घर-परिवार की याद आ रही है आदि सवाल करते हैं।

KD हॉस्पिटल की साइकोलॉजिकल सपोर्ट टीम अपनी जान-जोखिम में डालकर 28 दिनों तक अपने परिवार से दूर क्वारंटाइन में रह रहे डॉक्टर्स, नर्सेज, वार्डबॉय, स्वीपर आदि की भी काउंसलिंग कर हौसला बढ़ाती रहती है। मथुरा जनपद के किसी भी व्यक्ति को यदि मनोचिकित्सकीय सहायता की जरूरत है तो वह 9916489673 नम्बर पर वाट्सऐप के माध्यम से मैसेज कर मनोचिकित्सक से बात करने का समय ले सकता है। KD हॉस्पिटल में यह सारी सुविधाएं निःशुल्क दी जा रही हैं।
RK एजुकेशन हब के अध्यक्ष डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल, चेयरमैन मनोज अग्रवाल तथा डीन डाॅ. रामकुमार अशोका ने साइकोलॉजिकल सपोर्ट टीम का हौसला बढ़ाते हुए उसके सेवाभाव की तारीफ की। डाॅ. अग्रवाल का कहना है कि इस समय हर चिकित्सक का दायित्व बढ़ गया है। लोगों की हर हाल में सेवा करते हुए उन्हें संतुष्ट करना ही चिकित्सक का कर्तव्य है। यह काम कठिन जरूर है लेकिन नामुमकिन कतई नहीं।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *