भारत से रहम की भीख मांगने के कुछ घंटों बाद ही नापाक हरकत पर उतरा पाकिस्‍तान

श्रीनगर। सरहद पर बीएसएफ की जवाबी कार्यवाही से बैकफुट पर आकर भारत से गोलीबारी बंद करने की अपील करने वाले पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान ने 24 घंटे से भी कम समय के भीतर फिर एक बार अपना रंग दिखा दिया। सीमा पार से अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आते हुए पाकिस्तान ने रविवार देर रात एक फिर फायरिंग शुरू कर दी। पाकिस्तानी रेंजर्स जम्मू और सांबा जिलों में अंतर्राष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर बिना किसी उकसावे के लगातार गोलीबारी कर रहे हैं। सीमा सुरक्षाबलों (बीएसएफ) सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना ने रविवार देर रात जम्मू-कश्मीर के अर्निया, रामगढ़ और चामलियाल में बीएसएफ चौकियों पर गोलीबारी की।
सूत्रों ने बताया, ‘फायरिंग रात 10 बजे शुरू हुई। इसके बाद बीएसएफ के जवानों ने जवाबी फायरिंग की। हमारी ओर से किसी तरह की जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है।’ जबकि पाकिस्तानी रेंजर्स और बीएसएफ अधिकारियों ने रविवार को ही सीमा पर शांति बनाए रखने पर सहमति जताई थी।
बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने बताया था कि पाकिस्तानी रेंजर्स ने जम्मू बीएसएफ फॉर्मेशन को रविवार को फोन किया और गोलीबारी रोकने की अपील की थी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि पाकिस्तानी सेना द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर बिना उकसावे के गोलीबारी और गोलाबारी की गई जिसके बाद उन्हें माकूल जवाब दिया गया। इस पर पाक रेंजर्स ने बीएसएफ से यह अपील की है।
बीएसएफ ने जारी किया था सीमा पार बंकर उड़ाने का फुटेज
इससे पहले बीएसएफ ने रविवार सुबह 19 सेकंड का एक थर्मल इमैजिनरी फुटेज भी जारी किया था, जिसमें सीमा पार स्थित एक पाकिस्तानी बंकर को उड़ाया गया था। फुटेज में बिना उकसावे के सीमा के दूसरी ओर से गोलीबारी किए जाने के बाद भारत की जवाबी कार्यवाही में एक पाकिस्तानी चौकी को हुआ नुकसान नजर आया। बीएसएफ की जवाबी कार्यवाही में पाकिस्तान का एक जवान मारा गया था।
1 बीएसएफ जवान समेत 5 की मौत
बता दें कि पिछले चार दिनों में पाकिस्तानी ठिकानों पर बीएसएफ के जवानों की जवाबी गोलीबारी में भारी नुकसान हुआ है। पिछले चार दिनों से ही अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर, बिना किसी उकसावे के हुई गोलीबारी में बीएसएफ का एक जवान शहीद हुआ है। इसके अलावा 4 आम लोगों की भी मौत हुई है। सीमा पार से चल रही गोलाबारी में कई लोग घायल हुए हैं।
पाकिस्तान की ओर से फायरिंग की घटनाएं बढ़ीं
ऐसा माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शनिवार को संपन्न जम्मू-कश्मीर दौरे के मद्देनजर इन घटनाओं में तेजी आई है। वैसे भी जम्मू-कश्मीर में इस साल अंतर्राष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी और गोलाबारी की घटनाओं में वृद्धि हुई है। सीमा पार से गोलीबारी और गोलाबारी की हुई 700 से अधिक घटनाओं में 18 सुरक्षा कर्मियों सहित 38 लोग मारे गए तथा कई घायल हो गए।
सरकार ने की है सशर्त सीजफायर की घोषणा
जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती की अपील के बाद सरकार ने जम्मू-कश्मीर में रमजान के महीने के दौरान सशर्त रूप से एकतरफा सीजफायर की घोषणा की थी। सरकार के इस फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 16 मई को अपने ट्वीट में लिखा था, ‘सरकार ने जम्मू-कश्मीर में रमजान के दौरान सशर्त एकतरफा सीजफायर का ऐलान किया है। हालांकि, इस ऐलान के बाद भी सुरक्षाबल खुद पर हुए हमलों और कानून-व्यवस्था के खराब होने की स्थितियों में मनचाही कार्रवाई करने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र हैं।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »