मन और शरीर के कनेक्शन को साधती है Acupressure therapy

Acupressure शरीर के विभिन्न हिस्सों के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर दबाव डालकर रोग के निदान करने की विधि है। चिकित्सा शास्त्र की इस शाखा का मानना है कि मानव शरीर पैर से लेकर सिर तक आपस में जुड़ा है। हजारों नसें, रक्त धमनियां, मांसपेशियां, स्नायु और हड्डियों के साथ अन्य कई चीजें आपस में मिलकर इस मशीन को बखूबी चलाती हैं। अत: किसी एक बिंदु पर दबाव डालने से उससे जुड़ा पूरा भाग प्रभावित होता है। यह चीन की चिकित्सा पद्धति है। आज हम आपको बता रहे हैं कैसे आप इस डिमांडिग फील्ड में अपना कॅरियर बना सकते हैं।

क्या है एक्यूप्रेशर थेरेपी
एक्यूप्रेशर द्वारा शरीर की मांसपेशी तंतुओं में भी लचक पैदा हो जाती है, जिससे खून का संचार आसानी से होता है और यह अस्थिपंजर तक की बीमारी को दूर करता है। भारत में एक्यूप्रेशर का जन्म 5 हजार साल पहले हुआ था। एक्यूप्रेशर के लगभग 669 बिंदुओं की सूची दी गई है और चार्ट में 1000 प्वॉइन्ट दिए गए हैं लेकिन रोजाना प्रयोग में आने वाले प्वॉइन्ट 100 से 200 ही होते हैं। इसके इलाज में प्रमुख काम उगलियों का ही होता है क्योंकि इसमें रोगी को बिना किसी दवाई और पेनरिलीफ के ठीक करना होता है। इसमें शरीर के कुछ खास प्वॉइंट पर प्रेशर करना होता है।

एशियन मेडिकल फिलोसफी के अनुसार शरीर के प्वाइंट को प्रैशर के द्वारा ठीक किया जाता है, ताकि शरीर में चलने वाला खूब का प्रवाह सही गति में धमनियों में चल सके। इससे बॉडी की टेंशन, खास अंगो का दर्द धीरे-धीरे कम हो जाता है। चिकित्सा शास्त्र की इस पद्दति का मानना है कि शरीर में हजारों नसों ,रक्त धमनियों ,मांसपेसियों ,स्नायू और हड्डियों के साथ कई अन्य चीजे मिलकर इस शरीर रूपी मशीन को चलाते हैं।

क्‍या है इस पद्धति में

इस पद्दति में हथेलियों ,पैरों के तलवों, अंगुलियों और कभी कभी कोहनी अथवा घुटनों पर हल्के और मध्यम दबाव डालकर शरीर में स्थित उन उर्जा केन्द्रों को फिर से सक्रिय किया जाता है, जो किसी कारण अवरुद्ध हो गई हों।

बिना दवा के इलाज करने वाली यह पद्धति सरल ,हानिरहित, खर्च रहित व अत्यंत प्रभावशाली और उपयोगी है, जिसे कोई भी थोड़ी सी जानकारी हासिल कर कभी भी कहीं भी कर सकता है। बस शरीर से संबंधित अंगों के बिंदु केन्द्रों की हमें जानकारी होनी चाहिए। वर्तमान में भारत और चीन के साथ ही अमेरिका आदि देशों में भी कई रोगों के उपचार में एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति काम में लाई जाती है।

क्‍या होना चाहिए एक Acupressure थेरेपिस्‍ट में

समस्या हल करने के कौशल
वास्तविक जीवन की स्थितियों के साथ रोग का सामना करते समय महत्वपूर्ण सोच लागू करने में सक्षम
लगन
ग्राहक को आराम पहुंचाने की क्षमता
देखभाल
ईमानदार
संचार और सुनने का कौशल
समझ और संवेदनशीलता
धीरज
आत्म जागरूकता और भावनात्मक स्थिरता
अच्छा हाथ-आंख समन्वय और एक स्थिर हाथ
रचना और सहानुभूति
जिम्मेदारी लेने में सक्षम होना चाहिए, और उन्हें समझना चाहिए, मन और शरीर के कनेक्शन के लिए जुनून
मिलनसार व्यक्तित्व।

यदि आप भी Acupressure पैथी को बतौर स्‍पेशलिस्‍ट आजमाना चाहते हैं तो इसके लिए प्रोफेशनल कोर्स अवश्‍य कर लें।

-एजेंसी