जमात-उद-दावा पर कार्यवाही तेज, कई मदरसों और उनकी संपत्ति कब्‍जे में ली

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने बुधवार को प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ जारी कार्यवाही में तेजी लाते हुए मुंबई आतंकवादी हमले के सरगना हाफिज सईद के नेतृत्व वाले जमात-उद-दावा पर कार्यवाही तेज की। इसकी शाखा फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) से संबंधित कई मदरसों और उनकी संपत्ति को अपने कब्जे में ले लिया। मंगलवार को पाकिस्तान ने जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को औपचारिक रूप से प्रतिबंधित सूची में डाला था जिसके बाद इन प्रतिबंधित संगठनों की संपत्ति को कब्जे में लिया गया।
मंगलवार को संशोधित की गई पाकिस्तान के राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक प्राधिकरण (एनएसीटीए) की इस सूची के अनुसार जमात और एफआईएफ, आतंकवाद निरोधक कानून 1997 के तहत गृह मंत्रालय द्वारा प्रतिबंधित 70 संगठनों में शामिल हैं। डॉन अखबार की खबर के अनुसार राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपी) के तहत कानून लागू करने वाली एजेंसियों द्वारा शुरू की गयी ताजा मुहिम के तहत प्रतिबंधित जमात और एफआईएफ से संबंधित मदरसों और संपत्ति को पाकिस्तान सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया है। इसके अनुसार पंजाब प्रांत के अतिरिक्त मुख्य सचिव की विडियो लिंक के जरिए आयुक्तों और पुलिस प्रमुखों के साथ हुई बैठक के बाद चकवाल और अटक जिलों में बड़ी कार्रवाई की गई।
बैठक में संबंधित अधिकारियों को उनकी संपत्ति को अपने कब्जे में लेने का आदेश दिया गया था। इसके बाद की कार्यवाही में चकवाल में जमात के मदरसों तालागंग इलाका स्थित मदरसा खालिद बिन वालिद और चकवाल की रेलवे रोड पर स्थित मदरसा दारूस सलम के साथ उनके कर्मचारी औकाफ विभाग की निगरानी में है। पंजाब प्रांत के निर्देशों के बाद मदरसों को कब्जे में लेने के लिये वहां अधिकारी नियुक्त किए गए। खबर के अनुसार 27 फरवरी को संभागीय खुफिया समिति के ताजा सर्वेक्षण के दौरान जमात और एफआईएफ की संपत्ति का अटक जिले में भी पता चला है। इसके अनुसार अटक के जिला प्रशासन ने इनकी संपत्ति पर प्रबंधकीय और संचालनगत नियंत्रण कर लिया है।
इन संपत्ति में अटक में मदरसा और मस्जिद मुसाब बिन उमेर शामिल हैं। यह निर्माणाधीन संपत्ति 13-कनाल (1.6 एकड़) में फैली है और इसका मासिक खर्च 60,000 रुपये है। अटक जिला शिक्षा प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने इसे अपने नियंत्रण में ले लिया है। इसी तरह से मासिक 48,000 रुपये खर्च से चल रही एफआईएफ की एक ऐंबुलेंस को अटक में जिला आपात कार्यालय ने अपने कब्जे में ले लिया है। इसके अनुसार रावलपिंडी संभाग के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि सरकार ने एलएपी के तहत कार्यवाही को लेकर सुरक्षा एजेंसियों द्वारा चलाई जा रही मुहिम से संबंधित कोई विशेष निर्देश नहीं दिए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »