बारिश में थोड़ी सी लापरवाही बना सकती है बीमार

बारिश को देखना और उसमें भीगना हर किसी को अच्छा लगता है लेकिन दिक्कत तब आती है, जब थोड़ी सी लापरवाही आपको बीमार बना देती है इसलिए जरूरी है कि मॉनसून में होने वाली दिक्कतों और बीमारियों से दूर रहने के लिए कुछ जरूरी सावधानियां बरती जाएं। बारिश में हाइजीन यानी सफाई का विशेष ध्यान रखें।
हाथों की सफाई
जितनी भी प्रॉब्लम्स स्टार्ट होती हैं, वो हाथों की गंदगी से होती है इसलिए कुछ भी खाने से पहले हाथ धो लें। बिना हाथ धोए कोई भी चीज टच न करें। यहां तक कि बाल व अपनी स्किन को भी नहीं। अगर नाखून बढ़ाने के शौकीन हैं तो बारिश के मौसम में इन्हें छोटा ही रखें।
गीले कपड़े तुरंत उतारें
अगर आप बारिश में भींग गए हैं तो जितनी जल्दी संभव हो, ड्राई व क्लीन कपड़े पहन लें। खासतौर पर गीले अंडरगार्मेंट्स पहनकर रखने से फंगल इन्फेक्शन का खतरा रहता है लिहाजा बारिश के मौसम में जूते, मोजे व इनरवेयर को हमेशा सूखा रखें।
पैरों की क्लीनिंग
बारिश के मौसम में पैर सबसे ज्यादा पानी से भीगते हैं इसलिए फंगल इन्फेक्शन का चांस अधिक रहता है। इसलिए…
-पैरों की सफाई के लिए ऐंटिसेप्टिक का इस्तेमाल करें।
– नॉयलान की जगह कॉटन के मोजे पहनें।
– गीले हो गए मोजे को तुरंत बदलें।
– पैरों को डीप क्लीन करने के लिए समय-समय पर पेडिक्योर करवाएं।
– नंगे पांव बिल्कुल न चलें
– खुले जूते पहनें या ऐसी चप्पलें पहनें, जो आसानी से सूख जाएं।
– हफ्ते में एक दिन जूतों को कुछ देर धूप में रखें, जिससे उसमें मौजूद बैक्टीरिया खत्म हो जाए।
स्किन और बालों का रखें ध्यान
बारिश के मौसम में स्किन को हेल्दी रखने के लिए दिन में दो बार साबुन लगाकर नहाएं। एक-दूसरे के तौलिए और कपड़ों का प्रयोग न करें। स्किन पर पसीना न ठहरने दें। इसे किसी साफ कपड़े से पोंछते रहें। नहीं तो फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा बना रहता है। इससे बचने के लिए डियोड्रेंट या पाउडर यूज करें। बारिश के मौसम में बाल भी ज्यादा गिरते हैं इसलिए माइल्ड शैंपू यूज करें। अगर बालों में डैंड्रफ है तो ऐंटी डैंड्रफ शैंपू यूज करें लेकिन वीक में केवल एक बार। बालों की टोन को देखते हुए कोई अच्छा नैचरल कंडिशनर लगाना न भूलें।
घर को रखें क्लीन
घर के आसपास पानी न जमा होने दें। इससे मच्छर व दूसरे कीटाणु पैदा नहीं होंगे। घर को नमी से बचाने के लिए जहां लीकेज हो रहा हो तो उसे तुरंत ठीक करवा लें। कई बार दीवारों में नमी होने से भी घर में कीड़े हो जाते हैं। घर के हर एंट्रेस गेट पर फ्लोर मैट लगाएं। इससे कीचड़ घर के अंदर नहीं आएगा। मॉनसून में किचन को स्मेल से बचाने के लिए रोजाना स्प्रे करें। किचन में चीटियां न आए, इसके लिए सिरके से दो से तीन बार वाइप करें। रात को पेस्टिसाइड्स डालें जिससे कॉकरोच घर के अंदर जगह न बना पाएं।
बच्चों के लिए इनडोर गेम्स
मॉनसून में भीगने का डर अधिक रहता है इसलिए बच्चों को इनहाउस गेम्स खेलने को कहें। उन्हें पूरी बांह के कपड़ें पहनाएं, जिससे उनको मच्छर न काट पाएं।
बारिश में ​हेल्दी डाइट है जरूरी
– कड़वे और नमकीन टेस्ट वाली चीजों का सेवन अधिक करें
– चावल, छाछ, पतली दही, दूध, कद्दू, करेला, जीरा, अदरक और कच्चे प्याज का सेवन कर सकते हैं
– नींबू, आलूबुखारा, ऑरेज, आंवला, अमरूद आदि विटमिन सी से भरपूर चीजें खाएं
बारिश में क्या न खाएं
– पत्तेदार सब्जियां न खाएं। इनमें सेल्यूलोज होता है, जो ठीक तरह से डाइजेस्ट नहीं हो पाता।
– स्ट्रीट फूड व फास्ट फूड।
– कटे और खुले में रखे फल।
– तेज नमक वाला खाना या खट्टी चीजें।
– फ्राइड फूड।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »