आगरा में यमुना एक्सप्रेसवे पर दर्दनाक हादसा, 29 लोगों की मौत

आगरा में यमुना एक्सप्रेसवे पर एक बस हादसे में 29 लोगों की मौत हो गई है और 18 लोग घायल हैं. लखनऊ से दिल्ली आ रही उत्तर प्रदेश रोडवेज़ की यह ‘जन रथ’ बस आगरा के 30 फीट गहरे झरना नाले में जा गिरी. प्रशासन के मुताबिक सभी शवों को बाहर निकाला गया है और घायलों को अस्पताल भेज दिया गया है.
मौक़े पर आगरा के ज़िलाधिकारी एन जी रवि कुमार, एसएसपी बबलू कुमार मौजूद हैं. ज़िलाधिकारी एन जी रवि कुमार ने 29 लोगों की मौत की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि यमुना एक्सप्रेसवे पर यह बस बैरियर तोड़ते हुए नाले में जा गिरी.
उन्होंने बताया, “तड़के करीब चार-साढ़े चार बजे की घटना है. यह बस लखनऊ से दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे जा रही थी. प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि ड्राइवर को नींद आने की वजह से ये घटना हुई होगी. मरने वालों में 27 वयस्क, एक 15-16 साल की लड़की और एक डेढ़ साल की बच्ची शामिल है.”
केंद्रीय रेल और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने घटना पर दुख जताते हुए मृतकों को श्रद्धांजलि दी है.
प्रदेश के मुख्यमंत्री दफ़्तर की ओर से सूचित किया गया है कि मुख्यमंत्री ने घटना का संज्ञान लिया है और यात्रियों की मौत पर दुख जताया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को तुरंत मौके पर पहुंचने का निर्देश दिया है.
सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी पीड़ित परिवारों को 5 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है. इसके साथ ही उन्होंने हादसे की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है. सीएम ने समिति को 24 घंटे में रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है.
मुख्यमंत्री ने डीएम और एएसपी को निर्देश दिया है कि घायलों को तुरंत ज़रूरी मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराई जाएं.
रेलिंग तोड़ते हुए 30 फीट गहरे नाले में जा गिरी बस
मिली जानकारी के अनुसार अवध डिपो की रोडवेज बस रविवार रात 10 बजे आलमबाग रोडवेज बस स्टैंड से सवारियों को लेकर दिल्ली के लिए निकली थी. बस लखनऊ एक्सप्रेस-वे और इनर रिंग रोड होते हुए तड़के लगभग साढ़े चार बजे करीब यमुना एक्सप्रेस- वे पर पहुंच गई. बताया जा रहा है कि यहां से दो-तीन किलोमीटर चलते ही चालक को झपकी आ गई. इसके बाद अनियंत्रित होकर बस यमुना एक्सप्रेस- वे की चार फीट ऊंची रेलिंग को तोड़ते हुए 30 फीट गहरे नाले में जा गिरी.
बस में 40-45 यात्री थे सवार
बताया जा रहा है कि बस में लगभग 40 से 45 यात्री सवार थे. हादसे के समय अधिकतर यात्री गहरी नींद में थे. किसी को चीखने का भी मौका नहीं मिला. गांव के ही एक व्यक्ति ने हादसे के समय धमाके जैसी जोर की आवाज सुनी. उसी ने आसपास के लोगों को इसकी जानकारी दी. इसके बाद गांव वाले भारी संख्या में वहां पहुंच गए. ग्रामीणों ने ही पुलिस को सूचना दी.
गांव वालों की मदद से घायलों को निकाला बाहर
बस नाले में गिरकर उल्टी हो गई थी और सभी सवारियां उसमें फंसी हुई थीं. मौके पर पहुंची पुलिस ने गांव वालों की मदद से घायलों को बाहर निकाला और उन्हें अस्पताल पहुंचाया. हादसे के करीब दो घंटे बाद जेसीबी और क्रेन मौके पर पहुंचीं. इसके बस को सीधा कर उसमें फंसे अन्य लोगों को निकाला गया, जिसमें ज्यादातर की मौत हो चुकी थी. मृतकों की शिनाख्त के प्रयास किए जा रहे हैं. सभी शवों को पोस्टमॉर्टम हाउस भिजवा दिया गया है.
डीएम ने कहा, शायद ड्राइवर को आई थी झपकी
आगरा के डीएम एनजी रवि कुमार ने बताया है इस हादसे में एक बच्ची और 15 साल की बालिका सहित 29 लोगों की मौत हुई है. 18 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में ऐसा लग रहा है कि बस की स्पीड तेज थी और ड्राइवर को झपकी आ गई. फिलहाल मौके पर सर्च ऑपरेशन जारी है.
उधर, पीएम नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर दुख प्रकट किया है. साथ ही पीएम ने कहा कि राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन पीड़ितों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहे हैं.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *