भारतीय क्रिकेट और सहवाग के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण है 8 दिसंबर

8 दिसंबर का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहस के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसी दिन 2011 में धुरंधर बल्लेबाजों में शुमार पूर्व भारतीय ओपनर वीरेंदर सहवाग ने क्रिकेट की दुनिया में नया रेकॉर्ड बनाया था। वह वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ने वाले सचिन तेंडुलकर के बाद दूसरे पुरुष बल्लेबाज बने थे। उन्होंने तब 219 रनों की ऐतिहासिक पारी खेली जो तब वनडे क्रिकेट में सबसे बड़ा निजी स्कोर था। इंदौर के होल्कर स्टेडियम में सहवाग ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ यह रेकॉर्ड बनाया था।
सहवाग ने अपनी विस्फोटक पारी में 149 गेंदों का सामना किया और 7 छक्के और 25 चौके लगाए। मैदान का शायद ऐसा कोई कोना बचा होगा जहां सहवाग ने शॉट नहीं जड़ा हो। इंदौर के इस मैदान पर सिर्फ सहवाग ने ही रेकॉर्ड नहीं बनाया, बल्कि टीम इंडिया ने भी एक रेकॉर्ड बनाया था। भारत ने यहां पर 418 रन बनाए, जो इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट के इतिहास में अब भी उसका सबसे बड़ा स्कोर है।
इस मौके पर सहवाग ने कहा था कि भगवान उनके साथ है। उन्होंने कहा था, ‘जब पावर प्ले शुरू हुआ उसके बाद ही मुझे लगा कि मैं डबल सेंचुरी तक पहुंच सकता हूं। जब सैमी ने मेरा कैच ड्रॉप किया तब तो मैं बिल्कुल समझ गया कि भगवान मेरे साथ है।’ सहवाग को 219 रन के स्कोर पर पोलार्ड ने आउट किया। आउट होने के बाद सहवाग जब पविलियन की तरफ जा रहे थे वेस्ट इंडीज के खिलाड़ी उनसे हाथ मिलाने के लिए भी आए।
सहवाग ने पारी के 44वें ओवर में आंद्रे रसल की बॉल को कट किया और वह बाउंड्री लाइन से बाहर 4 रन के लिए चली गई। इसके साथ ही खचाखच भरे इंदौर के होलकर स्टेडियम में दर्शक झूम उठे। वेस्ट इंडीज की टीम 265 रन पर ऑलआउट हो गई और भारत ने 153 रन से मैच जीत लिया।
फिलहाल वनडे क्रिकेट का सबसे बड़े स्कोर का वल्ड रेकॉर्ड भारतीय ओपनर रोहित शर्मा के नाम है। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ नवंबर, 2014 में कोलकाता में 173 गेंदों में 33 चौके और 9 छक्के की मदद से 264 रनों का स्कोर बनाया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *