72 वां निरंकारी संत Samagam 16 से हरियाणा में

मथुरा। हरियाणा में होने वाले 72 वें निरंकारी संत Samagam को लेकर ब्रज के निरंकारी भक्तों का उत्साह भी चरम पर है, निरंकारी भक्तों ने यहां मथुरा के हाइवे नवादा स्थित संत निरंकारी सत्संग भवन पर संत समागम के बारे में जानकारी दी।

जोनल इंचार्ज संत हरविंद्र कुमार अरोड़ा ने बताया कि विश्व प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय तीन दिवसीय 72 वां वार्षिक निरंकारी संत समागम, सद्गुरु माता सुदिक्षा जी महाराज के सानिध्य में 16 से 18 नवम्बर तक हरियाणा के गन्नौर और समालखा के बीच जी.टी. रोड स्थित संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल पर होगा, जिसमें देश के सभी राज्यों तथा दूर-देशों से लाखों श्रद्धालु भक्तों के साथ ही मथुरा जिले के हजारों निरंकारी भक्त भाग लेने 15 नवम्बर को भोडवाल मांजरी रवाना हो रहे हैं।

प्रवक्ता किशोर स्वर्ण ने कहा कि संत समागम में तीनों दिन सत्संग होगा जिसमें विश्वभर के प्रसिद्ध वक्ता अपने विचार व्यक्त करेंगे, वहीं तीनों दिन सद्गुरु माता सुदिक्षा जी महाराज के आशीर्वचनों का लाभ भी भक्तों को मिलेगा। समागम में आध्यात्मिक निरंकारी प्रदर्शनी आकर्षण का केंद्र रहेगी।

बहन ममता ने कहा कि आनंद का अवसर होगा निरंकारी संत समागम, दीवार रहित विश्व की सीख मिलती है। निरंकारी प्रचारक एसके रावत ने कहा कि निरंकारी संत समागम में आध्यात्मिक वातावरण मिलता है, जिसका लाभ विश्वभर के संत-भक्त लेते हैं। प्रचारिका मनीषा सिंह ने कहा कि जीवन का आधार क्या है, जन्म सफल कैसे हो, इसकी जानकारी संत समागम में बताई जाती है। युवा भक्त भरत कुमार ने कहा कि वसुदैव कुटुम्बकम की परिभाषा निरंकारी संत समागम में कायम होती दिखती है, जहां मानवता का अनुठा संगम देखने को मिलता है। प्रचारिका भगवानी निरंकारी ने कहा कि समागम पर संत-महात्माओं के संदेश और सद्गुरु के आशीर्वाद का एक साथ लाभ मिलता है।

समागम की तैयारियों में सेवा करने हेतु उत्तर प्रदेश से लगभग 5 हजार सेवादार-भक्त समालखा में लगातार एक माह से तैयारियों में भागीदारी कर रहे हैं, जिसमें मथुरा के सेवादार भक्त, निरंकारी सेवादल के संचालक मोहन सिंह, शिक्षक अशोक दयालु , सहायक शिक्षक योगेश कुमार के नेतृत्व में लगातार जुटे हैं। समागम स्थल पर सत्संग पण्डाल, आध्यात्मिक प्रदर्शनी, लंगर, केंटीन, डिस्पेंसरी तथा भक्तों को विविध सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले कई कार्यालय इत्यादि के अलावा बाहर से आने वाले भक्तों के सुविधापूर्वक निवास हेतु हजारों शामियाने लगाए गए हैं। तभी तो एक बार फिर समालखा के जी टी रोड स्थित संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल पर लगे मैदानों में विशाल सुन्दर शामियानों का एक शहर तैयार हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »