71वां कान फिल्म फेस्टिवल प्रारंभ, भारत की ‘मंटो’ होगी रिलीज

कान। फिल्म की दुनिया का सालाना जलसा फ्रांस के कान शहर में मंगलवार 8 मई से शुरू हो गया है। कान फिल्म फेस्टिवल का यह इकहत्तरवां (71) साल है और इस पकी उम्र में कान फेस्टिवल के आयोजकों ने एक पुराना झगड़ा ख़तम किया है।
डेनमार्क के फिल्मकार लार्स वॉन ट्राएर को 2011 में ‘पर्सोना नॉन ग्राटा’ करार दे दिया गया था। इसका सीधा सा मतलब है कि आपका यहां स्वागत नहीं है।
लार्स ने दूसरे विश्व युद्ध के समय पर और यहूदियों पर मजाक किया था लेकिन वो मजाक नहीं बचा और अपराध साबित हुआ।
खैर, इतने बरसों के वनवास के बाद लार्स अपनी नई फिल्म लेकर कान फिल्म फेस्टिवल में शामिल हैं। उनकी फिल्म कॉम्पीटीशन में तो नहीं है लेकिन आउट ऑफ़ कॉम्पीटीशन सेक्शन में रखी गई है।
फेस्टिवल की शुरुआत ईरान के फिल्मकार असग़र फ़रहादी की फिल्म ‘everybody knows’ से हो रही है। इस साल कॉम्पीटीशन सेक्शन में एक से बढ़ कर एक नाम हैं, एक तरफ फ्रेंच डायरेक्टर गोदार्द हैं, जिन्हें अपनी कला में महान का दर्जा बहुत पहले ही मिल चुका है तो दूसरी ओर मिस्त्र के अबु बकर शौकी हैं जो अपनी फिल्म के साथ दुनिया भर के बड़े बड़े फिल्मकारों के साथ पाम डी’ओर की आस में हैं।
तुर्की के नूरी सेलान, अमेरिका के स्पाइक ली, और ईरान के जफ़र पनाही (जो नज़र बंदी में हैं) भी कॉम्पीटीशन में अपनी फिल्मों के साथ हैं।
21 फिल्में कम्पीटिशन या ऑफिशियल सिलेक्शन में हैं और 16 फिल्में अनसर्टेन रेगार्ड सेक्शन में हैं। अनसर्टेन रेगार्ड में वो फिल्में आती हैं जो कम्पीटिशन में नहीं जा पाती और इसी सेक्शन में नंदिता दास की फिल्म मंटो है।
नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी मंटो के किरदार में हैं और रसिका दुग्गल उनकी साथी कलाकार हैं। इन तीनों की टीम पिछले साल अपनी लगभग पूरी हो चुकी फिल्म को प्रमोट करने और सही मायनों में कान फेस्टिवल के आयोजकों को एक नज़र दिखाने के लिए मौजूद थी। तब से ही यह तय था कि मंटो कान फिल्म फेस्टिवल में रिलीज होगी। किस सेक्शन में यह नहीं पता लेकिन होगी जरूर। नतीजा सामने है। अनसर्टेन रेगार्ड सेक्शन में भारत की कई फिल्में पिछले कुछ सालों में दिखाई जा चुकी हैं और मसान ने तो अवार्ड भी जीता था।
रोहना गेरा एक ऐसा नाम है जो अभी तक परदे के पीछे ही रहा है लेकिन इस साल कान फिल्म फेस्टिवल में कैमरे उनको ढूंढ रहे हैं। रोहना की पहली फीचर फिल्म ‘सर’ क्रिटिक्स वीक के सिलेक्शन में शामिल हुई है। रोहना ने इस से पहले जस्सी जैसा कोई नहीं टीवी सीरियल लिखा था।
इतना ही नहीं, थोड़ा प्यार थोड़ा मैजिक और कुछ न कहो फिल्में लिखने का श्रेय भी रोहना को जाता है। 2016 में इनकी डॉक्यूमेंट्री फिल्म आई थी लेकिन ‘सर’ पहली फीचर फिल्म है।
और अब कुछ खबर रेड कारपेट की भी। … तो सुना है सोनम कपूर शादी के बाद वर्ल्ड फेमस रेड कारपेट पर चलने के लिए सीधे कान पहुंचेंगी। इनके साथ रेड कारपेट वेटरन ऐश्वर्या राय और दीपिका पादुकोण भी होंगी लेकिन इस साल एक नया नाम बॉलीवुड दिवा लिस्ट में जुड़ गया है। हुमा कुरैशी ‘ग्रे गूस’ कंपनी की ब्रांड एम्बैस्डर बन कर रेड कारपेट की शोभा बढ़ाएंगी।
एक तरफ यह देवियां डिज़ाइनर गाउन में फोटो खिंचा रही होंगी और दूसरी तरफ रोहना और नंदिता की फिल्में सिनेमा के परदे पर अपना जलवा दिखाएंगी। कौन किस पर भारी पड़ता है यह तो 10 दिन बाद ही पता चलेगा, अभी तो फेस्टिवल (पार्टी) शुरू हुआ है….
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »