लश्‍कर-ए-तैयबा के 6 आतंकी तिलक और भभूत लगाकर घुसे

चेन्‍नै। जम्‍मू-कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद राज्‍य में सुरक्षा एजेंसियों की चौकस निगरानी के कारण घुसपैठ करने में नाकाम रहने वाले पाकिस्‍तानी आतंकवादी अ‍ब भारत में घुसपैठ के लिए नए रास्‍ते तलाश रहे हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने आगाह किया है कि आतंकवादी संगठन लश्‍कर-ए-तैयबा के 6 आतंकी श्रीलंका के रास्‍ते तमिलनाडु के कोयंबटूर में घुस गए हैं। आतंकियों के घुसपैठ की सूचना के बाद राज्‍य में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है।
सूत्रों के मुताबिक ये आतंकवादी श्रीलंका के रास्‍ते भारत में प्रवेश किए हैं। इन 6 आतंकवादियों में एक पाकिस्‍तानी और एक श्रीलंका का तमिल आतंकी है। ये सभी आतंकवादी मुस्लिम हैं लेकिन उन्‍होंने हिंदुओं की तरह से वेशभूषा धारण कर रखा है। लश्‍कर आतंकवादियों ने तिलक और भभूत लगा रखा है। अलर्ट को देखते हुए राजधानी चेन्‍नै समेत पूरे राज्‍य में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है।
चेन्‍नै में सुरक्षाकर्मियों ने गश्‍त बढ़ा दी है और महत्‍वपूर्ण स्‍थानों पर पुलिसकर्मियों की संख्‍या बढ़ा दी गई है। इसके अलावा क्‍यूआरटी टीम को भी तैनात किया गया है। प्रमुख चौराहों पर सुरक्षाकर्मी लोगों की जांच कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि लश्‍कर के आतंकवादियों को श्रीलंका के कुछ लोगों ने भारत में घुसने में मदद की है।
इससे पहले जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बुधवार को कहा था कि घाटी में आंतक विरोधी ऑपरेशन जारी रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि आतंकियों को अलग-थलग करने और उनर दबाव बनाने के लिए हम काम करते रहेंगे। उन्होंने ये बातें बारामुला में हुए एनकाउंटर के बाद कहीं। बता दें कि अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद घाटी में हुई यह पहली मुठभेड़ थी।
डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, ‘घाटी में कानून व्यवस्था सुधारने के लिए मजबूत कदम उठाए जा गए हैं। लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हम काम कर रहे हैं।’ उन्होंने चेतावनी दी कि शांति भंग करने और लोगों में अशांति फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी। बारामुला एनकाउंटर में मारे गए आतंकी की पहचान मोमिन गोजरी के रूप में हुई है, जोकि बारामुला का ही निवासी था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »