पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या में 5 लोगों को मौत की सजा

रियाद। अमेरिका में रह रहे सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या मामले में सऊदी अरब की कोर्ट ने 5 दोषियों को मौत की सजा सुनाई है।
पत्रकार खशोगी मर्डर केस में पांच को मौत की सजा के साथ तीन लोगों को 24 साल की कैद की सजा भी सुनाई गई है। क्राउन प्रिंस के कठोर आलोचक रहे खशोगी की हत्या तुर्की में सऊदी के वाणिज्य दूतावास में कर दी गई थी। इस हत्या के बाद दुनियाभर में सऊदी के खिलाफ प्रदर्शन हुए थे।
सऊदी की कोर्ट ने पांच लोगों को सुनाई मौत की सजा
सऊदी की एक अदालत में इस हत्या केस की सुनवाई चली। कोर्ट ने अपने फैसले में खशोगी के हत्याकांड में पांच को फांसी की सजा सुनाई है। हत्याकांड को अंजाम देने वालों में तीन दोषियों को 24 साल की कैद की सजा भी सुनाई गई। बता दें कि इसी साल अक्टूबर महीने में तुर्की के एक अखबार में कथित तौर पर खशोगी के अंतिम शब्दों की रिकॉर्डिंग जारी की थी।
2 अक्टूबर 2018 को आखिरी बार दिखे थे पत्रकार खशोगी
खशोगी वॉशिंगटन पोस्ट अखबार के लिए एक स्तंभ लिखते थे और गायब होने से पहले अमेरिका में रहते थे। उन्हें अंतिम बार 2 अक्टूबर 2018 को इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करते देखा गया था, जहां वह तुर्की की अपनी मंगेतर से शादी करने के लिए कुछ कागजात लेने गए थे। उनकी विवादास्पद मौत के बाद सऊदी अरब दुनिया के निशाने पर आ गया। सऊदी अरब ने उनके गायब होने के बारे में परस्पर विरोधी सूचना जारी की।
रिकॉर्डिंग में खशोगी को कहा था कुर्बानी का पशु
सबाह ने इस सप्ताह खशोगी की हत्या को लेकर 2 नए रिपोर्ट प्रकाशित किए हैं। उनके नवीनतम रिपोर्ट में कथित रिकॉर्डिंग की विस्तृत जानकारी उपलब्ध है। इसमें सऊदी अरब की ओर से भेजा गया एक फरेंसिक विशेषज्ञ खशोगी के दूतावास आने से पहले कथित तौर पर उन्हें कुबार्नी दिए जाने वाला पशु बताता है।
सबाह की रिपोर्ट के अनुसार खाशोगी को वाणिज्य दूतावास आने के बाद संदेह हो गया और उनसे कहा गया कि एक इंटरपोल आदेश की वजह से उन्हें रियाद वापस जाना पड़ेगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *