Prayagraj के गांव में एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के Prayagraj में एक परिवार के 5 सदस्यों की गला काटकर हत्या कर दी गई। मृतकों में तीन और सात साल के दो बच्चे भी हैं। मामला Prayagraj गंगापार के सोरांव के युसूफपुर गांव का है। मृतकों में परिवार का मुखिया, उनके बेटे-बहू और दो पोते शामिल हैं। वारदात से गांव में तनाव है, जिसे देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। एसएसपी ने मौके पर पहुंचकर जांच की। फॉरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए हैं।

हत्याकांड की सूचना मिलने के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। आनन-फानन आईजी समेत एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज मौके पर पहुंचे। इसके साथ ही घटना स्थल पर डॉग स्क्वॉड और फरेंसिक टीम भी नमूनों की जांच के लिए पहुंची। पुलिस इस मामले को आपसी रंजिश से जोड़कर भी देख रही है।

घर का मुख्य दरवाजा था बंद

एसपी ने बताया कि पूरे घर को सील कर दिया गया है। किसी को भी घर के अंदर जाने की अनुमति नहीं है। अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि हत्या की वजह क्या है? घर का मुख्य दरवाजा बंद था। ऐसे में आशंका है कि हत्यारों ने पीछे वाले गेट से घर में एंट्री ली थी। अडिशनल एसपी गंगापार नरेंद्र कुमार सिंह ने कहा, ‘घर के सभी दरवाजे बंद थे। माना जा रहा है कि हत्यारे छत से घर में दाखिल हुए थे। घटना स्थल से विजय शंकर तिवारी (55), उनके बेटे सोनू (30), सोनू की पत्नी सोनी (27), सोनू के दो बच्चे कुंज और कान्हा के शव मिले हैं। कान्हा सात वर्ष था जबकि कुंज महज तीन वर्ष का था।’

खून से लथपथ मिले शव
स्थानीय लोगों का कहना है कि विजय शंकर तिवारी गुजरात की एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते थे। वह इन दिनों गांव आए हुए थे। उनका बेटा सोनू गांव में ही रहता था। रात में खाना खाने के बाद सभी सो गए। सुबह काफी देर तक जब परिवार का कोई सदस्य घर के बाहर नहीं निकला तो पड़ोसियों को शक हुआ। पड़ोसी जब घर के अंदर पहुंचे तो वहां सभी 5 लोगों के शव खून से लथपथ पड़े हुए थे। इस बात की आनन-फानन जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस टीम सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची।

कोई विवाद भी सामने नहीं आया

पुलिस का कहना है कि हत्या के पीछे जमीनी विवाद फिलहाल नहीं लग रहा है। क्योंकि, परिवार के पास ज्यादा जमीन नहीं है, और जो है वह निर्विविवादित है। हत्या की वजह क्या हो सकती है? इसकी जांच की जा रही है।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *