संस्कृति विवि के 41 और छात्र-छात्राओं को मिली नौकरी

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय में चल रहे कैंपस प्लेसमेंट के दौरान गुड़गांव से आई एमीनेंट लैंड एंड इन्वेस्टमेंट प्लानर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने 19 और विकास ग्रुप आफ इंडस्ट्री ने 22 छात्रों को अच्छे वेतनमान पर चयनित किया है। कंपनी से आए अधिकारियों ने यह चयन लिखित, मौखिक परीक्षा के बाद किया।

संस्कृति विवि के प्लेसमेंट सेल के प्रभारी आरके शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि विकास ग्रुप आफ इंडस्ट्री आटोमेटिव इंडस्ट्री में एक जाना पहचाना नाम है। इसके द्वारा अतंर्राष्ट्रीय स्तर के उत्पाद तैयार किये जाते हैं। वहीं एमीनेंट लैंड एंड इन्वेस्टमेंट प्लानर एक प्राइवेट लिमिटेड गैर सरकारी कंपनी है। कंपनी बड़े स्तर पर बिल्डिंग निर्माण को पूरा करने का काम करती है। कंपनियों से आए अधिकारियों ने विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को निर्धारित विस्तृत चयन प्रक्रिया के पश्चात चयनित किया है।

विकास ग्रुप आफ इंडस्ट्री से आए एचआर विभाग के अधिकारियों ने संस्कृति विवि से जिन छात्रों को अपने यहां नौकरी के लिए चयनित किया है उनमें मैकेनिकल इंजीनिरिंग (डिप्लोमा) के तेजेंद्र सिंह, हरेंद्र सिंह, समीर कुमार, संतोष कुमार, लाखन सिंह, राज कुमार, पियूष शर्मा, सुंदर सिंह, मुकेश, चंदरपाल, विष्णु सिंह, अनूप कुमार सिंह, सौरव सिंह, अमर सिंह, ओमप्रकाश, आकाश कुमार, अनिल कुमार, कौशिक राज इलेक्ट्रिक इंजीनिरिंग (डिप्लोमा) गौरव शर्मा, सुमित कुमार, मृत्युंजय कुमार, शिवम शर्मा हैं।

Eminent Land and Investment Planner Private Limited कंपनी ने जिन छात्र-छात्राओं को कंपनी ने अपने यहां नौकरी दी है, उनमें संस्कृति विवि के बीबीए के छात्र अमित शर्मा, निखिल श्रीवास्तव, विपिन, प्रवीण वार्ष्णेय, आनंद कुमर तिवारी, छात्रा ऋतु अग्रवाल, बी.काम. के छात्र निश्चय शर्मा, श्रवण चौधरी, मयंक गोयल, प्रदीप माथुर, छात्रा अनुराधा अग्रवाल, बीएससी बीएड की छात्रा निशा चौहान, कीर्ति शर्मा, यामिनी प्रिया, ऋतिका सिसौदिया, दीप्ती सिंह राघव, अंजू सिसौदिया, एमबीए की आज्रा प्रवीन तथा बीएससी की सोनम वर्मा हैं।

सभी चयनित छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं देते हुए विवि की विशेष कार्याधिकारी श्रीमती मीनाक्षी शर्मा ने कहा कि हमारे विवि से निकलकर बड़ी-बड़ी कंपनियों में रोजगार पा रहे छात्र-छात्राएं विवि का नाम तो ऊंचा कर ही रहे हैं साथ ही कंपनियों को भी आगे ले जाने में बहुत बड़ा योगदान दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि संस्कृति विवि द्वारा विद्यार्थियों को रोजगारपरक शिक्षा प्रदान की जा रही है। यही वजह है कि ये विद्यार्थी कंपनियों की आवश्यकताओं पर खरे उतर रहे हैं।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *