जल्लीकट्टू पर रोक के खिलाफ प्रदर्शन में 3 लोगों की मौत, 28 घायल

3 people killed in demonstrations against the ban on Jallikattu, 28 injured
जल्लीकट्टू पर रोक के खिलाफ प्रदर्शन में 3 लोगों की मौत, 28 घायल

नई दिल्ली। जल्लीकट्टू पर रोक के खिलाफ प्रदर्शन में 3 लोगों के मरने की खबर है और 28 लोग घायल हुए हैं। तमिलनाडु के पोडुकोट्टई में 2 और मदुरई में 1 की मौत हुई है।
तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों में रविवार को जल्लीकटटू का आयोजन किया गया। वहीं मदुरै के आलंगनल्लूर में विरोध प्रदर्शन जारी रहे जहां लोगों ने स्थाई समाधान की मांग करते हुए सांड़ को काबू में करने के इस खेल के आयोजन से इंकार कर दिया और इस वजह से मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम को बिना उदघाटन किये चेन्नई लौटना पड़ा। पनीरसेल्वम ने शनिवार को कहा था कि वह सुबह 10 बजे आलंगनल्लूर में कार्यक्रम का उदघाटन करेंगे।
चेन्नई के मरीना बीच समेत राज्य के विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शनकारी अब भी डटे हुए हैं। मरीना बीच पिछले छह दिन से प्रदर्शन का केंद्र बना हुआ है। प्रदर्शनकारी इस खेल के आयोजन के लिए स्थाई समाधान और पशु अधिकार संगठन पेटा पर पाबंदी लगाने की मांग करते हुए नारेबाजी कर रहे हैं।
प्रदर्शनकारियों ने जहां आयोजन के स्थाई समाधान की मांग की और नारे लगाते हुए कहा कि अध्यादेश केवल अस्थाई उपाय है तो पनीरसेल्वम ने कहा, राज्य सरकार का जल्लीकटटू पर अध्यादेश का रास्ता स्थाई, सशक्त और टिकाऊ है और इसे आगामी विधानसभा सत्र में कानून बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अध्यादेश लागू होने के बाद कोई प्रतिबंध नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि शनिवार को चेन्नई में शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाया जाएगा, जिसके बाद अध्यादेश की जगह कानून ले लेगा।
चेन्नई रवाना होने से पहले मदुरै में पनीरसेल्वम ने कहा, जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध पूरी तरह से हटा लिया गया है। आलंगनल्लूर में स्थानीय लोगों द्वारा तय तारीख पर खेल का आयोजन किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के सभी हिस्सों में जल्लीकट्टू का आयोजन किया गया और स्थानीय प्रशासन और पुलिस इसके लिए सभी एहतियातन कदम उठा रहे हैं। यहां और तमुक्कम मैदान में लगातार विरोध प्रदर्शन और बंद जारी रहने से पनीरसेल्वम द्वारा जल्लीकट्टू के उदघाटन पर प्रश्नचिहन लग गया था।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *