Aurangzeb की हत्या के मामले में राष्ट्रीय राइफल्स के 3 जवानों को हिरासत में लिया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सेना के जवान Aurangzeb की अपहरण के बाद हत्या के मामले में जांच कर रही पुलिस ने तीन जवानों को हिरासत में लिया है। सूत्रों की माने तो इन तीन जवानों ने आतंकियों के लिए मुखबिरी की थी। जिसके बाद छुट्टी पर घर जा रहे Aurangzeb की अपहरण कर हत्या कर दी गई थी।

वहीं इस मामले में पुलिस का कहना है कि वह अभी राष्ट्रीय राइफल्स के दो जवानों से पूछताछ कि जा रही है। जम्मू-कश्मीर में यह पहला मौका है जब किसी सेना के जवान पर यह प्रश्न चिन्ह लग रहा है कि उसने आतंकियों के लिए मुखबिरी की हो।

गत साल जून 2018 में ईद से पहले सेना की 44 आरआर के राइफलमैन औरंगजेब छुट्टियों पर पुंछ अपने घर जा रहे थे। इस दौरान आतंकियों ने पुलवामा और शोपियां के रास्ते में उन्हें निजी टैक्सी से अगवा कर लिया था। कलमपोरा से करीब 15 किलोमीटर दूर गुस्सु गांव में अगले दिन औरंगजेब का गोलियों से छलनी शव मिला था।

शहीद औरंगजेब के पिता को पीएम मोदी की मौजूदगी में भाजपा में किया गया था शामिल

शौर्य चक्र विजेता शहीद सैनिक औरंगजेब के पिता मोहम्मद हनीफ रविवार को भाजपा में शामिल हुए थे। विजयपुर में भाजपा की महारैली में प्रधानमंत्री के पहुंचने से पूर्व ही प्रदेशाध्यक्ष रवींद्र रैना, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना, सांसद जुगल किशोर शर्मा व अन्य नेताओं की मौजूदगी में मोहम्मद हनीफ को भाजपा में शामिल किया गया था। पार्टी नेताओं ने मोहम्मद हनीफ को पार्टी का पटका पहनाकर अभिनंदन भी किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंच पर पहुंचने पर मोहम्मद हनीफ उनसे मिले भी थे। इस दौरान मोहम्मद हनीफ ने प्रधानमंत्री को शहीद सैनिक Aurangzeb का चित्र भी भेंट किया था।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *