Beating the Retreat के साथ खत्म हुआ 3 दिन का गणतंत्र दिवस समारोह

नई दिल्‍ली। गणतंत्र दिवस के समापन समारोह के तौर पर मनाए जाने वाले Beating the Retreat समारोह का समापन हो गया है। हर साल यह कार्यक्रम 29 जनवरी के दिन मनाया जाता है। इस कार्यक्रम के जरिए गणतंत्र दिवस के आयोजन का औपचारिक एलान किया जाता है।

Beating the Retreat भारत के गणतंत्र दिवस समारोह की समाप्ति का सूचक है। इस कार्यक्रम में थल सेना, वायु सेना और नौसेना के बैंड पारंपरिक धुन के साथ मार्च करते हैं। यह सेना की बैरक वापसी का प्रतीक है। गणतंत्र दिवस के पश्चात हर वर्ष 29 जनवरी को बीटिंग द रिट्रीट कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।

समारोह का स्थल रायसीना हिल्स और बगल का चौकोर स्थल (विजय चौक) होता है जो की राजपथ के अंत में राष्ट्रपति भवन के उत्तर और दक्षिण ब्लॉक द्वारा घिरे हुए हैं। बीटिंग द रिट्रीट गणतंत्र दिवस आयोजनों का आधिकारिक रूप से समापन घोषित करता है।

गणतंत्र दिवस के समापन समारोह के तौर पर मनाए जाने वाले Beating the Retreat समारोह की शुरुआत हो चुकी है।
हर साल यह कार्यक्रम 29 जनवरी को आयोजित किया जाता है।
इस कार्यक्रम के जरिए गणतंत्र दिवस के आयोजन का औपचारिक एलान किया जाता है।

राष्ट्रपति का काफिला पहुंचने के बाद राष्ट्रगान से कार्यक्रम का आगाज हुआ। इसके बाद राष्ट्रपति ने तिरंगे को सलामी दी।

सभी महत्‍वपूर्ण सरकारी भवनों को 26 जनवरी से 29 जनवरी के बीच रोशनी से सुंदरता पूर्वक सजाया जाता है। हर वर्ष 29 जनवरी की शाम को अर्थात गणतंत्र दिवस के बाद अर्थात गणतंत्र की तीसरे दिन बीटिंग द रिट्रीट आयोजन किया जाता है। यह आयोजन तीन सेनाओं के एक साथ मिलकर सामूहिक बैंड वादन से आरंभ होता है जो लोकप्रिय मार्चिंग धुनें बजाते हैं। ड्रमर भी एकल प्रदर्शन (जिसे ड्रमर्स कॉल कहते हैं) करते हैं। ड्रमर्स द्वारा एबाइडिड विद मी (यह महात्मा गाँधी की प्रिय धुनों में से एक कहीं जाती है) बजाई जाती है और ट्युबुलर घंटियों द्वारा चाइम्‍स बजाई जाती हैं, जो काफ़ी दूरी पर रखी होती हैं और इससे एक मनमोहक दृश्‍य बनता है। इसके बाद रिट्रीट का बिगुल वादन होता है, जब बैंड मास्‍टर राष्‍ट्रपति के समीप जाते हैं और बैंड वापिस ले जाने की अनुमति मांगते हैं। तब सूचित किया जाता है कि समापन समारोह पूरा हो गया है। बैंड मार्च वापस जाते समय लोकप्रिय धुन सारे जहाँ से अच्‍छा बजाते हैं। ठीक शाम 6 बजे बगलर्स रिट्रीट की धुन बजाते हैं और राष्‍ट्रीय ध्‍वज को उतार लिया जाता हैं तथा राष्‍ट्रगान गाया जाता है और इस प्रकार गणतंत्र दिवस के आयोजन का औपचारिक समापन होता हैं।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »