KD हॉस्पिटल में अब तक बची 28 कोरोना संक्रम‍ितों की जान

मथुरा। दुनिया भर में बच्चों और वृद्धों के लिए कोरोना संक्रमण को काफी घातक माना जा रहा है लेकिन अपनी बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाओं और सुयोग्य चिकित्सकों के प्रयासों से KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर गुरुवार तक 19 वृद्धों तथा नौ शिशुओं को नया जीवन देकर उनके परिजनों के चेहरे पर मुस्कान लौटा चुका है। गुरुवार को दो युवाओं की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें डिस्चार्ज किया गया।

दरअसल, कोरोना वायरस का सबसे अधिक असर बुजुर्गों में देखा जा रहा है। इसकी वजह है कि उनका इम्‍यून सिस्‍टम उतना मजबूत नहीं होता है। इसकी तस्दीक विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की वह रिपोर्ट भी करती है जिसमें बुजुर्गों को इससे सबसे अधिक खतरा बताया गया है।

देखा जाए तो KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में लगातार कोरोना संक्रमितों को नई जिन्दगी मिल रही है। इनमें वे वृद्ध और शिशु भी शामिल हैं जिनके लिए इसे सबसे घातक माना जा रहा है। अब तक KD हाॅस्पिटल से 19 वृद्ध और नौ शिशु स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट चुके हैं। KD हॉस्पिटल से स्वस्थ होकर अपने घर लौटे हर व्यक्ति ने यहां की आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधाओं, डॉक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ के सेवाभाव की तारीफ की है।

KD हॉस्पिटल में अब तक आया हर बच्चा स्वस्थ होकर ही घर वापस लौटा है। इसकी मुख्य वजह यहां के शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. राजेश बंसल और उनकी टीम के प्रयासों को माना जा सकता है। स्वस्थ होने वाले बच्चों में एक पांच माह का शिशु भी शामिल है। 19 वृद्धों को मिली नई जिन्दगी पर कोविड सेण्टर इंचार्ज डाॅ. गौरव सिंह का कहना है कि KD हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमितों की देखभाल एक टीम के रूप में की जा रही है।

इस टीम में मेडिसिन विशेषज्ञ डाॅ. सौरभ सिंघल, निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ. एपी भल्ला, डॉ. प्रदीप कुमार पाढ़ी, डॉ. गगनदीप कौर, डॉ. शुभम द्विवेदी, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ शामिल है।

देखा जाए तो आर. के. एजुकेशन हब के अध्यक्ष डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल और उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल निरंतर कोरोना संक्रमितों की चिकित्सा सेवा में लगे चिकित्सा कर्मियों का न केवल हौसला बढ़ा रहे हैं बल्कि किसी को कोई तकलीफ न हो इसकी हिदायत भी दे रहे हैं।

चेयरमैन मनोज अग्रवाल, काॅलेज के डीन डाॅ. रामकुमार अशोका, एमएस डाॅ. राजेन्द्र कुमार, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी अरुण अग्रवाल कोरोना संक्रमण के खिलाफ तन-मन से चिकित्सा सेवा करने वाले डॉक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारियों को अब तक की शानदार सफलता के लिए बधाई देते हुए स्वयं की सुरक्षा का ख्याल रखने का आह्वान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *