178 साल पुराना ब्रिटेन का ट्रैवल ग्रुप Thomas Cook दिवालिया

लंदन। ब्रिटेन के ट्रैवल ग्रुप Thomas Cook ने रविवार को दिवालिया होने का ऐलान कर दिया। 178 साल पुराने Thomas Cook पर 1.7 अरब पाउंड (15 हजार करोड़ रुपए) का कर्ज है। संचालन जारी रखने के लिए 20 करोड़ पाउंड (1766 करोड़ रुपए) की तत्काल जरूरत थी। कंपनी ने कहा कि तमाम कोशिशों के बावजूद नए निवेशकों से एग्रीमेंट नहीं हो पाया इसलिए दिवालिया की अर्जी दाखिल करने का फैसला लेना पड़ा। थॉमस कुक 16 देशों में हर साल 19 करोड़ लोगों को होटल, रिसॉर्ट और एयरलाइन सर्विस मुहैया करवा रही थी। न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक कुछ रिपोर्ट्स में पता चला कि थॉमस कुक के बंद होने से दुनियाभर के 6 लाख पर्यटक फंस गए हैं। इनमें से 1.5 लाख ब्रिटेन के हैं।
ब्रिटेन के परिवहन सचिव ग्रांट शेप्स ने बताया कि दर्जनों चार्टर्ड विमान किराए पर लिए हैं ताकि ब्रिटेन के यात्रियों को घर पहुंचाया जा सके। उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। सरकार का कहना है कि ब्रिटेन के इतिहास में दूसरे विश्व युद्ध के बाद यह यात्रियों की सबसे बड़ी वापसी होगी।
थॉमस कुक की ट्रैवल एजेंसियां बंद होने से दुनियाभर में इसके 22 हजार कर्मचारी बेरोजगार हो गए। इनमें से 9 हजार ब्रिटेन के हैं। थॉमस कुक ने मई में जानकारी दी थी कि ब्रेग्जिट की अनिश्चतताओं की वजह से गर्मियों की छुट्टियों की बुकिंग घट गई। इससे घाटा बढ़ गया। ग्रुप के ब्रिटेन में 600 स्टोर हैं। वे ऑनलाइन कॉम्पटीशन की वजह से दबाव में आ गए।
थॉमस कुक ने 1841 में ट्रैवल कंपनी के तौर पर शुरूआत की थी। उस वक्त ब्रिटेन के शहरों के बीच ट्रेन टूर ऑपरेट करती थी। 1855 में यूरोप और 1866 में अमेरिका के टूर शुरू किए थे। 1927 में एयर टूर की शुरुआत की थी।
दो साल पहले मोनार्क एयरलाइंस के बंद होने पर ब्रिटेन की सरकार ने विमान किराए पर लेकर 1.10 लाख यात्रियों को घर पहुंचाने का इंतजाम किया था। इस पर 6 करोड़ पाउंड का खर्च आया था।
दिवालिया ग्रुप 2012 से प्रमोटर नहीं: थॉमस कुक इंडिया
थॉमस कुक इंडिया लिमिटेड (टीसीआईएल) का कहना है कि थॉमस कुक यूके के दिवालिया होने से भारतीय ऑपरेशन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। दिवालिया ग्रुप से उसका कोई लेना-देना नहीं। अगस्त 2012 में कनाडा की फेयरफैक्स फाइनेंशियल होल्डिंग्स कंपनी ने थॉमस कुक इंडिया का अधिग्रहण कर लिया था। टीसीआईएल के शेयर फेयरफैक्स को ट्रासंफर करने के बाद थॉमस कुक यूके प्रमोटर नहीं रहा। टीसीआईएल में उसकी कोई हिस्सेदारी नहीं है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *