पाकिस्तान, चीन और बांग्लादेश बॉर्डर पर तैनात की जाएंगी 15 नई बटालियन

नई दिल्‍ली। सरकार योजना बना रही है कि पाकिस्तान, चीन और बांग्लादेश बॉर्डर पर 15 नई बटालियन की तैनाती की जाए। गृह मंत्रालय के सीनियर अफसर ने न्यूज़ एजेंसी को बताया कि ITBP की 9 और BSF की 6 फ्रेश बटालियन होंगी, हर बटालियन में 1000 जवान और अफसर होंगे।
इंडो-बांग्लादेश, इंडो-पाकिस्तान IB अहम
BSF सोर्सेस के मुताबिक सेनाओं ने आसाम और वेस्ट बंगाल के इलाके में नई यूनिट तैनात करने के लिए अपनी मैनपावर बढ़ाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं। इंडो-बांग्लादेश बॉर्डर और इंडो-पाक इंटरनेशनल बॉर्डर पर भी तैनाती बढ़ाई जाएगी।
वजह क्या है?
BSF के सीनियर अफसर ने कहा, “नई बटालियनें कहां पर तैनात की जाएंगी, इसके बारे में अभी कुछ निश्चित नहीं कहा जा सकता है लेकिन घुसपैठ, ड्रग स्मगलिंग, ह्यूमन ट्रैफिकिंग, इल्लीगल माइग्रेशन के लिहाज से पाकिस्तान और बांग्लादेश प्रायोरिटी रहेंगे।’
इसके अलावा पाकिस्तान की ओर से लगातार किए जाने वाला सीज फायर वॉयलेशन भी बड़ी वजह है।
ITBP बॉर्डर ऑउट पोस्ट की दूरी घटाएगा
ITBP में भी बॉर्डर आउट पोस्ट की दूरी घटाने पर विचार किया जा रहा है। फोर्स को 47 नए BOPs बनाने की मंजूरी मिली है।
एक सीनियर अफसर ने बताया, “पहले ये इरादा था कि 12 नई बटालियन बनाए जाएं, लेकिन आने वाले वक्त में फोर्स की जरूरत 9 की है।’
वजह क्या है?
लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर चीन की सेना के लगातार दखल और टकराव को सबसे बड़ी वजह कहा जा सकता है, जिसके चलते ITBP अपने जवानों की संख्या बढ़ाने पर विचार कर रही है।
सरकार का क्या कहना है?
गृह मंत्रालय के अधिकारी के मुताबिक नई बटालियनों की तैनाती से बॉर्डर की रखवाली करने वाली दोनों फोर्सेस को अपनी यूनिट्स की अदला-बदली में काफी मदद मिल सकेगी।
बता दें कि BSF की स्ट्रेंथ इस वक्त 2.5 लाख जवानों-अफसरों की है, वहीं ITBP में 90 हजार जवान हैं। होम मिनिस्ट्री के तहत इन दो फोर्सेस के अलावा सशस्त्र सीमा बल भी काम करती है।
सीजफायर वॉयलेशन में 4 गुना इजाफा
भारतीय सेना को बीते साल सीजफायर वॉयलेशन और टेररिस्ट एक्टिविटीज की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ा है।
आर्मी के स्पोक्सपर्सन कर्नल अमन आनंद के मुताबिक, 2017 में पाकिस्तानी सेना ने 860 बार सीजफायर वॉयलेशन किया। 2016 में उसने 221 बार सीजफायर वॉयलेशन किया था।
इस साल 138 PAK सैनिक मारे गए
भारतीय सेना ने 2017 में 138 पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर की गई कार्यवाही में 155 पाकिस्तानी रेंजर्स जख्मी भी हुए। इस दौरान भारत के 28 जवान शहीद हो गए, 70 जख्मी हुए।
-एजेंसी