मुठभेड़ में मारा गया 15 लाख का इनामी नक्‍सली कमांडर, एके-47 बरामद

रांची। झारखंड के खूंटी में प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीएलएफआई PLFI का सबजोनल कमांडर जिदन गुड़िया मुठभेड़ में मारा गया है। पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप के बाद जिदन गुड़िया नक्सली संगठन में दूसरा स्थान रखता था। उस पर 15 लाख रुपये का इनाम भी था। मुठभेड़ के बाद घटनास्थल से पुलिस ने एके-47 और कारतूस भी बरामद किया है।
मौके से एके-47 और कारतूस भी बरामद
पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम सोमवार सुबह खूंटी जिले के मुरहू थाना इलाके में अभियान पर थी। इस दौरान कोयंगसार जंगल में चलाए गए सर्च ऑपरेशन के दौरान सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। इस दौरान दोनों ओर से जमकर गोलीबारी हुई, जिसमें पीएलएफआई सबजोनल कमांडर जिदन गुड़िया मारा गया। कार्रवाई के बाद जांच टीम ने मौके से एके-47 और कारतूस भी बरामद किया।
एनकाउंटर में दोनों ओर से फायरिंग, मारा गया जिदन गुड़िया
बताया गया कि पुलिस और सीआरपीएफ की 94वीं बटालियन की संयुक्त टीम नक्सल प्रभावित इलाके में अभियान पर थी। इस दौरान पुलिस से घिरता देख नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद पुलिस की तरफ से भी जवाबी फायरिंग की गई। जिसमें 15 लाख का इनामी जिदन गुड़िया मारा गया। वहीं नक्सली दस्ते के अन्य सदस्य जंगल का फायदा उठाकर भाग निकले। पुलिस जंगल में सर्च अभियान चला रही है।
लंबे समय पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था जिदन गुड़िया
जिदन गुड़िया खूंटी के तोरपा थाना इलाके में कोचाकरंज टोली गांव का रहने वाले था। पुलिस के लिए वह काफी दिनों से चुनौती बना हुआ था और उसे लंबे समय से उसकी तलाश की जा रही थी। हाल के कुछ महीनों में पुलिस की ओर से लगातार की जा रही कार्यवाही में पीएलएफआई नक्सली संगठन बैकफुट पर नजर आ रहे हैं। इस साल अब तक की बड़ी कार्यवाही में पीएलएफआई नक्सली संगठन के 6 सदस्यों को मार गिराया गया है। अब जिदन गुड़िया के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद पीएलएफआई नक्सली संगठन को बड़ा झटका लगा है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *