स्नैपडील ने फ्लिपकार्ट में अपने मर्जर की बातचीत कैंसल की

संकट में फंसे स्नैपडील ने देश के सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में अपने मर्जर की बातचीत कैंसल कर दी है। गुड़गांव की इस कंपनी ने कहा कि अब वह स्वतंत्र रास्ते पर आगे बढ़ना चाहती है। इस बीच न्यूज़ एजेंसी पीटीआई का कहना है कि स्नैपडील में बड़े पैमाने पर छंटनी होने वाली है जिसमें 80 प्रतिशत कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने की योजना है।
स्नैपडील के एक प्रवक्ता ने एक बयान में फ्लिपकार्ट का नाम लिए बिना कहा, ‘स्नैपडील पिछले कुछ महीनों से स्ट्रैटिजिक ऑप्शन्स की तलाश में था। अब कंपनी ने स्वतंत्र रास्ता अख्तियार करने का फैसला किया। परिणाम स्वरूप इसने सभी रणनीतिक बातचीत पर विराम लगा रही है।’ स्नैपडील कथित रूप से 900 से 950 बिलियन डॉलर (57737 से 60928 अरब रुपये) में फ्लिपकार्ट को अपना बिजनेस बेचने के लिए बातचीत कर रहा था।
स्नैपडील ने कहा कि वह कुछ गैर-महत्वपूर्ण संपत्तियों को बेचकर अपनी वित्तीय हालात को मजबूत करेगा। पिछले सप्ताह देश के सातवें बड़े बैंक ऐक्सिस बैंक ने स्नैपडील से ही मोबाइल वॉलिट प्रोवाइडर फ्रीचार्ज को 385 करोड़ रुपये में खरीदने का ऐलान किया। स्नैपडील के सबसे बड़े निवेशक जापान के सॉफ्टबैंक ने कहा कि वह स्वतंत्र रास्ते पर चलने के कंपनी के फैसले का आदर करता है।
सॉफ्टबैंक ने कहा कि आंट्रप्रन्योर्स और उनके विजन को समर्थन देना उसके चेयरमेन और सीईओ मासोयोसी सन्स एवं कंपनी की इन्वेस्मेंट फिलॉसफी के मूल में हैं। अगर डील हो गई होती तो यह भारतीय ई-कॉमर्स सेक्टर की सबसे बड़ा अधिग्रहण होता। फरवरी 2016 में स्नैपडील का वैल्युएशन 6.6 अरब डॉलर के सर्वोच्च स्तर पर था जो अब फ्लिपकार्ट के साथ बातचीत में घटकर 1 अरब डॉलर पर आ पहुंचा।
दरअसल, तेज से बढ़ते देश के ई-कॉमर्स मार्केट पर दबदबे के लिए सबसे बड़ी देसी कंपनी फ्लिपकार्ट का दिग्गज अमेरिकी कंपनी ऐमजॉन से दो-दो हाथ हो रहा है।
बता दें कि मुश्किलों में घिरे ऑनलाइन मार्केटप्लेस स्नैपडील के मार्केट लीडर फ्लिपकार्ट के साथ प्रस्तावित विलय का मामला सुलझाने के लिए सोमवार और मंगलवार को बेंगलुरु में होने वाली एक अहम बैठक रद्द कर दी गई। लॉ फर्म जे सागर असोसिएट्स और बैंकर क्रेडिट सुइस इस बातचीत में स्नैपडील का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उन्हें बेंगलुरु में फ्लिपकार्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले गोल्डमैन सैक्स और खेतान ऐंड कंपनी के साथ मीटिंग करनी थी।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *