सीताराम येचुरी एक बार फिर चुने गए CPM के जनरल सेक्रेटरी

हैदराबाद। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPM) ने सीताराम येचुरी को एक बार फिर से अपना जनरल सेक्रेटरी चुन लिया है। यह फैसला पार्टी की हैदराबाद में चल रही मीटिंग में लिया गया।
हालांकि, इस बात की संभावना पहले से ही जताई जा रही थी कि येचुरी ही फिर से पार्टी की कमान संभालेंगे।
इससे पहले पार्टी में दो फाड़ होने की भी अटकलें लगाई जा रही थीं। पार्टी में सीताराम येचुरी और पूर्व महासचिव प्रकाश करात के बीच मनमुटाव की खबरों के बीच ऐसी आशंका जताई जा रही थी कि महासचिव के नाम पर फिर से भी विचार किया जा सकता है। आखिर में बाजी सीताराम येचुरी के ही हाथों आई।
इससे पहले पार्टी सूत्रों का कहना था कि पार्टी की सेंट्रल कमेटी पूर्व महासचिव प्रकाश करात के पक्ष में है। वर्तमान महासचिव सीताराम येचुरी को भी पार्टी कांग्रेस में भरपूर समर्थन मिला, जहां वह पॉलिटिकल रेजॉलूशन पर अपने ‘अल्पसंख्यक दृष्टिकोण’ को भी प्रस्तुत करने में कामयाब रहे। बता दें कि येचुरी के मत को सेंट्रल कमेटी ने जनवरी में पहले ही खारिज कर दिया था।
विवाद की वजह
कहा यह भी जाता है सीताराम येचुरी जहां कांग्रेस से गठबंधन करके आगामी लोकसभा चुनाव में किसी भी तरह से बीजेपी को रोकना चाहते हैं, वहीं प्रकाश करात धड़े का यह मानना है कि भले ही चुनाव हारें लेकिन पार्टी को अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं करना चाहिए।
‘बीजेपी को हराना लक्ष्य’
कांग्रेस से गठबंधन पर सीताराम येचुरी का तर्क है, ‘आप अगर हमारे इतिहास को देखेंगे तो पाएंगे कि हम कभी किसी फ्रंट या गठबंधन का हिस्सा नहीं रहे हैं।’
उन्होंने आगे कहा, ‘इस बात को लेकर कोई मतभेद नही हैं कि आज प्राथमिकता बीजेपी सरकार को हराना है। इसे हम कैसे प्राप्त करेंगे, इस पर लगातार चर्चा की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »