मप्र में server डाउन होने से पटवारी परीक्षा रद्द

 server डाउन होने से नाराज स्टूडेंट्स का कई सेंटर्स में हंगामा,

तकनीकी शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने कहा TCS कंपनी पर होगी कार्रवाई

भोपाल। मध्य प्रदेश में परीक्षा प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित की गई, पटवारी परीक्षा 2017 में server डाउन होने से नाराज स्टूडेंट्स ने कई सेंटर्स में हंगामा कर दिया। उसके बाद इस परीक्षा ना दे पाने वाले छात्रों की परीक्षा ही निरस्त की गई। इस मामले में तकनीकी शिक्षा मंत्री दीपक जोशी का कहना है कि तकनीकी समस्याएं किसी के बस में नहीं है। server का काम देश की नंबर वन कंपनी TCS को दिया था लेकिन कंपनी से चूक हुई है। इस मामले में कंपनी पर कार्रवाई की जाएगी। पटवारी के 33 प्रतिशत पद महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। महिलाओं के लिए आरक्षित पदों की संख्या 3 हजार से अधिक होती है।

दरअसल, मध्य प्रदेश में पीईबी की ओर से आयोजित पटवारी परीक्षा आज सुबह 9 बजे से शुरू होने वाली थी। लेकिन सुबह 7:30 बजे से आधार वेरिफिकेशन की बॉयोमीट्रिक प्रोसेस शुरू होते ही PEB का सर्वर डाउन हो गया जिससे स्टूडेंट्स को परेशानी का सामना करना पड़ा। नतीजतन 9 बजे शुरू होने वाली परीक्षा दोपहर लगभग 12 बजे के बाद शुरू हो सकी। परीक्षा सेंटर्स के बाहर आधार लिंक कराने के लिए कई घंटों से लाइन में खड़े हुए थे लेकिन सर्वर डाउन होने से नाराज छात्रों ने हंगामा कर दिया और साथ में सेंटर्स पर पथराव भी किया। PEB के कंट्रोलर अधिकारी ने दावा किया कि पहले दिन की तकनीकी गड़बड़ियों को साल्व कर लिया जाएगा, और परीक्षा संपन्न कराई जाएंगी। आने वाले दिनों ने परीक्षा नियमित समय से कराई जाएंगीं।

मध्यप्रदेश में पटवारी बनने के लिए 10 लाख आवेदन:- मध्यप्रदेश में पटवारी की 9,235 पोस्ट के लिए 10 लाख से अधिक लोगों ने आवेदन किया है। इस परीक्षा का ऑनलाइन टेस्ट 9 दिसंबर से 29 दिसंबर तक लगातार 18 दिन तक चलेगा। केवल 17 और 25 दिसंबर को अवकाश होगा। प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड (PEB) यह टेस्ट TCS के द्वारा करा रहा है। टेस्ट में प्रतिदिन 55 हजार स्टूडेंट्स शामिल होंगे।

पहले व्यापमं की परीक्षाओं में फर्जीवाड़े के मामलों का रिकॉर्ड बना हुआ है। इसीलिए PEB अफसरों के अनुसार परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स की परीक्षा केन्द्र पर 3 बार चेकिंग की जाएगी। केन्द्र में घुसते समय, परीक्षा देते समय केन्द्र के अंदर और परीक्षा खत्म होने पर चेकिंग की जाएगी। server का काम देश की नंबर वन कंपनी TCS को दिया था लेकिन कंपनी से चूक हुई है।
-एजेंसी