प्रदूषण के मुद्दे पर पंजाब और हरियाणा के मुख्‍यमंत्रियों ने केजरीवाल से मिलने से इंकार किया

नई दिल्ली। ‘जहरीले’ प्रदूषण से जूझ रही दिल्ली को राहत दिलाने के मकसद से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पंजाब और हरियाणा के सीएम से मुलाकात करना चाहते थे, लेकिन दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने मिलने से इंकार कर दिया है।
केजरीवाल का कहना था कि तीनों राज्यों को मिलकर पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण का समाधान ढूंढना होगा। जवाब में कैप्टन ने कहा कि इस काम में राज्यों की नहीं, केंद्र की भूमिका है। हरियाणा के सीएम मनोहर लाला खट्टर ने कहा कि हरियाणा सरकार पहले ही अपने स्तर पर उचित कदम उठा रही है। कैप्टन और खट्टर के इस रुख को राजनीति से भी जोड़कर देखा जा रहा है।
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार शाम ट्वीट कर दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलने की इच्छा जताई। उन्होंने दोनों ही राज्यों के मुख्यमंत्रियों के एक जैसा लेटर लिखा, जिसके जबाब में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हरियाणा पहले ही प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए उचित कदम उठा रहा है, वहीं पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पराली के धुंए पर रोक के लिए केंद्र सरकार के हस्तक्षेप को जरूरी बताया।
केजरीवाल को जवाब देते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लिखा, ‘हालात गंभीर हैं पर पंजाब असहाय है क्योंकि समस्या बहुत फैल चुकी है और राज्य के पास किसानों के मुआवजा देने के लिए पैसा नहीं है। यह दो राज्यों के बीच चर्चा का मुद्दा नहीं है, इससे कुछ हासिल नहीं होगा। इसमें केंद्र के दखल की जरूरत है।’ कैप्टन के इस ट्वीट के बाद केजरीवाल ने भी उन्हें जवाब दिया और कहा, ‘सर, अगर हम मिलें तो यह सबसे बेहतर होगा। क्या आप अनुमानित फंड साझा कर सकते हैं? हम दोनों मिलकर केंद्र से गुहार लगा सकते हैं। इससे दोनों राज्यों के लोगों को मदद मिलेगी।’
चिट्ठी में क्या लिखा CM केजरीवाल ने?
सीएम केजरीवाल ने पत्र में लिखा कि दिल्ली में हवा की स्थिति बहुत खराब हो चुकी है। राजधानी गैस चैंबर में तब्दील हो गई है। लोगों का सांस लेना भी मुश्किल हो रहा है। दिल्ली सरकार ने स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी किए हैं। बढ़ते प्रदूषण का एक प्रमुख कारण पंजाब और हरियाणा में पराली जलाया जाना है। उन्होंने लिखा है कि किसान बेबस हैं और आर्थिक रूप से कोई व्यवहारिक विकल्प उनके पास नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों को समाधान मुहैया कराने में नाकाम रही है। सीएम ने आपसी सहयोग की भावना के साथ समस्या को सुलझाने के लिए पंजाब और हरियाणा के साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव भी रखा है।
-एजेंसी