उत्तर कोरिया ने कहा, अब और मिसाइल परीक्षणों की ज़रूरत नहीं

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कहा है कि अब और परमाणु मिसाइलों का परीक्षण करने की ज़रूरत नहीं है.
उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया से मिल रही ख़बरों में ऐसा दावा किया गया है.
दक्षिण कोरिया की न्यूज़ एजेंसी योन्हप के मुताबिक, “21 अप्रैल से उत्तर कोरिया परमाणु मिसाइलों और अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण को रोक देगा.”
ख़बरों के मुताबिक उत्तर कोरिया की सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की बैठक के बाद ये फ़ैसला लिया गया.
अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के इस क़दम पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है, “उत्तर कोरिया सभी परमाणु परीक्षणों और बड़े परीक्षण ठिकानों को बंद करने के लिए तैयार हो गया है. यह उत्तर कोरिया और पूरी दुनिया के लिए एक बहुत अच्छी ख़बर है. ये बड़ी सफलता है. हम आगामी मुलाक़ात को लेकर आशावान हैं.”
परमाणु हथियार कार्यक्रम चलाने के कारण उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र ने अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध लगा रखे हैं.
पिछले साल नवंबर में उत्तर कोरिया ने अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण करने का दावा किया था और ये भी कहा था कि ये मिसाइल अमरीका तक मार करने में सक्षम है.
इस परीक्षण की संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेश ने कड़ी निंदा की थी और कहा था कि उत्तर कोरिया ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की एकजुट राय का अपमान किया है.
इससे पहले, अमरीकी मीडिया ने उच्चस्तरीय सरकारी सूत्रों के हवाले से ख़बर दी थी कि अमरीकी ख़ुफिया एजेंसी के निदेशक माइक पॉम्पियो ईस्टर के मौक़े पर (31 मार्च और 1 अप्रैल) उत्तर कोरिया के गुप्त दौरे पर गए थे.
पॉम्पियों के दौरे का मक़सद अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच सीधी बातचीत का रास्ता साफ़ करना था.
इससे पहले ट्रंप ने ख़ुद कोरिया के साथ वार्ता को उच्चस्तरीय बताते हुए कहा था कि किम के साथ आगामी बैठक के लिए पांच संभावित जगहों पर विचार किया जा रहा है.
उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच पिछले कुछ दिनों में संबंधों में सुधार हुआ है.
किम जोंग और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के बीच टेलीफ़ोन हॉटलाइन स्थापित की गई है और दोनों नेताओं का अगले हफ़्ते मिलने का कार्यक्रम भी है. ये बैठक एक दशक में पहली बार होने जा रही अंतर कोरियाई सम्मेलन के सिलसिले में होगी.
इसके अलावा किम की जून में अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप से मिलने का भी संभावना है. अगर ये मुलाक़ात होती है तो उत्तर कोरिया के किसी नेता की ये पदस्थ अमरीकी राष्ट्रपति के साथ पहली मुलाक़ात होगी.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »